इस लेख में

द्वारा

Levan Putkaradze

गहरी वित्तीय पृष्ठभूमि वाला एक अनुभवी कॉपीराइटर और सुलभ, आकर्षक और मूल्यवान सामग्री तैयार करने की क्षमता। मैं इस क्षेत्र में आकर्षक सामग्री तैयार करके फिनटेक और क्रिप्टो की दुनिया के रहस्यों को उजागर करता हूं। मेरा मानना है कि हर जटिल अवधारणा, विचार और कार्यप्रणाली को समझने योग्य और रोमांचक तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है, और हर नए विषय के साथ उस तरीके को खोजना मेरा काम है। मैं लगातार खुद को ऐसी सामग्री तैयार करने के लिए चुनौती देता हूं जो अपने लक्षित दर्शकों के लिए अपरिहार्य मूल्य रखती है, जिससे पाठकों को बिना किसी परेशानी के तेजी से जटिल विचारों को समझने में मदद मिलती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Constantine Belov

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

किसी निजी कंपनी के शेयर कैसे बेचें

आर्टिकल्स

Reading time

स्टॉक ट्रेडिंग इस व्यवसाय में मौजूद वित्तीय ट्रेडिंग के सबसे पुराने रूपों में से एक है, जहां व्यापारी कंपनी के स्टॉक के शेयर खरीद और बेच सकते हैं। हालाँकि, सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध शेयरों की तुलना में निजी कंपनियों के शेयरों के साथ अलग व्यवहार किया जाता है। निजी कंपनियों के शेयर NYSE या LSE जैसी प्रसिद्ध स्टॉक एक्सचेंजों में नहीं पाए जाते और ये सार्वजनिक शेयर ट्रेडिंग की तुलना में कम आम हैं। निजी कंपनी के शेयर बेचना थोड़ा जटिल होता है और इनको बेचने के लिए कई कारकों पर विचार करना शामिल है। 

अच्छी खबर यह है कि आप निजी शेयर बेच सकते हैं, लेकिन इसके लिए एक अलग रास्ता अपनाता पड़ता है, जिसे हम निम्नलिखित में समझाएंगे।

मुख्य बातें

  1. सार्वजनिक कंपनियों की तरह निजी शेयरों का कारोबार सार्वजनिक द्वितीयक बाजारों में नहीं किया जाता है। इसके बजाय, उन्हें निजी तौर पर निवेशकों को बेचा जाता है।
  2. निजी कंपनियाँ परिचालन नकदी प्रवाह को बढ़ाने के लिए एंजेल निवेशकों, उद्यम पूंजीपतियों, एक्सलेटर कार्यक्रमों और अन्य धन उगाहने वाले तरीकों के माध्यम से धन जुटाने के लिए शेयर जारी कर उन्हें बेच सकती हैं।
  3. निजी कंपनी के शेयर रखने वाले कर्मचारी अपने शेयर वापस कंपनी को या बाहरी निवेशकों और संस्थानों को बेच सकते हैं।
  4. निजी कंपनियों को एसईसी की आवश्यकताओं का अनुपालन करने की आवश्यकता नहीं होती और सार्वजनिक कंपनियों की तरह इन्हें अपनी रिपोर्ट का खुलासा करने की आवश्यकता भी नहीं होती।

सऊदी अरामको (पेट्रोलियम कंपनी) के पास अब तक के सबसे बड़े आईपीओ का रिकॉर्ड है, जिसने 2019 में सार्वजनिक जाने से 25.5 बिलियन डॉलर जुटाए थे।

कुछ तेज़ तथ्य

निजी शेयर होते क्या हैं?

शेयर किसी कंपनी के समग्र मूल्य और इक्विटी का हिस्सा होते हैं, और उनका मूल्य प्रदर्शन कंपनी की गतिविधि को दर्शाता है। कंपनियां जनता के सामने घोषणा करने से पहले निजी तौर पर रखे गए शेयरों के साथ निजी संस्थाओं के रूप में शुरुआत करती हैं और फिर द्वितीयक बाजारों और एक्सचेंजों में अपने स्टॉक का व्यापार करती हैं।

हालांकि, सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के विपरीत, निजी शेयरों का द्वितीयक बाजारों में कारोबार नहीं किया जाता है, और खुदरा व्यापारी निजी शेयर नहीं खरीद सकते हैं। लेकिन निजी कंपनियां धन जुटाने, निवेशकों को आकर्षित करने या आंतरिक शेयरधारक कार्यक्रम के एक भाग के रूप में निजी तौर पर रखे गए शेयर जारी कर सकती हैं।

इसके आलावा, चूंकि निजी शेयरों का सार्वजनिक रूप से कारोबार नहीं किया जाता है, इसलिए उन्हें सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज कमीशन का अनुपलन करने की आवश्यकता नहीं होती। इसलिए, केवल संस्थागत निवेशक और फर्म ही निजी स्टॉक का व्यापार कर सकते हैं।

निजी शेयर बनाम सार्वजनिक शेयर

सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध कंपनियों की तुलना में निजी कंपनियां कम संख्या में शेयर जारी करती हैं। इसलिए, उनके स्टॉक की कीमत में इतना उतार-चढ़ाव नहीं होता है, और इनकी कीमत केवल कंपनी के प्रदर्शन और उलटफेर के आधार पर बदल जाती है।

हालाँकि, सार्वजनिक कॉर्पोरेशन बड़ी मात्रा में शेयर जारी करती हैं, जो कई व्यक्तियों और संस्थानों के पास होते हैं। इसलिए, उनके स्टॉक की कीमत कॉर्पोरेट मूल्यांकन और रिपोर्ट के अलावा आपूर्ति और मांग कारकों के अनुसार बदलती है।

इसके अतिरिक्त, सार्वजनिक कॉर्पोरेशन के शेयर द्वितीयक बाजारों और एक्सचेंजों पर पाए जा सकते हैं, जबकि निजी शेयरों का निजी तौर पर कारोबार किया जाता है।

किसी निजी कंपनी के शेयर खरीदने के लिए, एक व्यापारी या कंपनी को एसईसी द्वारा मान्यता प्राप्त होना चाहिए और नेट वर्थ और आय के स्रोत से जुड़ी कुछ आवश्यकताओं को पूरा करना चाहिए। इन शर्तों में वित्त उद्योग में काम करने के लिए $200,000 की कुल संपत्ति होना शामिल हो सकता है।

निजी कंपनी अपने शेयर क्यों बेचती है?

ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से कोई निजी कंपनी अपने शेयर बिक्री के लिए पेश करती है। स्टार्टअप और नई उभरती कंपनियां अपने धन जुटाने के प्रयासों के तहत निवेशकों, संस्थानों और वित्तीय फर्मों को अपने शेयर पेश करती हैं। 

आमतौर पर छोटी कंपनियों के पास सीमित संसाधन होते हैं और वे तरलता उत्पन्न करने के लिए धन उगाहने वाले अभियानों पर निर्भर करती हैं, जिनके ज़रिए वह अपने व्यवसाय संचालन, वेतन और कार्य सॉफ़्टवेयर का भुगतान करती हैं।

इसके आलावा, निजी कंपनियां अपने भागीदारों के लिए इन शेयरों को कोलेट्रल के रूप में पेश कर सकती हैं, जिससे एक रणनीतिक साझेदारी बनती है, जो निजी कंपनी के शेयरों के बदले उनके प्रदर्शन और रिटर्न को बढ़ाती है।

निजी कंपनी के शेयरों का उपयोग एम्प्लॉयमेंट लॉयल्टी या इक्विटी शेयर कार्यक्रमों में भी किया जा सकता है, जिसके ज़रिए कर्मचारियों को कंपनी की इक्विटी का एक हिस्सा देकर कंपनी में बनाए रखा जा सकता है और उन्हें प्रेरित किया जा सकता है। 

क्या कोई निजी कंपनी जनता को शेयर बेच सकती है?

सार्वजनिक कंपनियों की तरह निजी कंपनियां अपने शेयरों को द्वितीयक बाजारों और एक्सचेंजों में नहीं बेच सकती हैं। किसी स्टॉक एक्सचेंज पर किसी निजी कंपनी के शेयर मिलने की संभावना बहुत कम होती है।

निजी कॉर्पोरेशन को एसईसी की आवश्यकताओं को पूरा करने की आवश्यकता नहीं होती। इसलिए, वे स्टॉक एक्सचेंजों में सूचीबद्ध नहीं होते और सार्वजनिक कंपनियों के विपरीत, जिन्हें अपनी रिपोर्ट नियमित रूप से प्रकाशित करनी होती है, निजी कॉर्पोरेशन को जनता के सामने अपनी रिपोर्ट और वित्तीय विवरण का खुलासा करने की आवश्यकता नहीं होती है।

निजी कंपनी के स्टॉक कैसे बेचें

निजी स्टॉक खरीदे और बेचे जा सकते हैं, लेकिन सार्वजनिक शेयरों जितनी आसानी से नहीं। हालाँकि, यदि कोई कंपनी सार्वजनिक होने और द्वितीयक बाज़ारों में अपने शेयर बेचने का निर्णय लेती है, या कोई कर्मचारी अपनी इक्विटी बेचना चाहता है, तो ऐसा करने के कुछ तरीके हैं।

सार्वजनिक बिक्री

एक कंपनी सार्वजनिक होने और अमेरिकी सिक्योरिटी और एक्सचेंज कमीशन का अनुपालन करने की इच्छा कर सकती है, इसके लिए वह आईपीओ प्रक्रिया को पूरा कर अपने शेयरों को आम जनता के लिए सूचीबद्ध कर सकती है। स्टॉक एक्सचेंज पर शेयर बेचने से कंपनियों को अपने व्यवसाय के बारे में अधिक धन एकत्रित करने और जागरूकता बढ़ाने में लाभ होता है, खासकर यदि वे एक निजी इकाई के रूप में सफल होते हैं और अपनी मान्यता का विस्तार करना चाहते हैं और लंबी अवधि की सफलता पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।

कंपनियां विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों और बाज़ारों में निवेशकों और व्यापारियों के एक बड़े समूह से अधिक धन जुटाने के लिए भी सार्वजनिक जाती हैं। हालाँकि, इस कदम के लिए व्यापक नियामक अनुपालन की आवश्यकता होती है, जिसमें उनके प्रदर्शन और वित्त की आवधिक रिपोर्ट प्रदान करना भी शामिल होता है। 

निजी निवेशक

निजी कंपनियाँ अपने शेयर व्यक्तिगत या संस्थागत व्यापारियों को बेच सकती हैं। निजी निवेशकों को बेचना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि इसके लिए एसईसी अनुपालन की आवश्यकता नहीं होती, और निजी निगम धन जुटाने के लिए एंजेल निवेशकों, फंड, एक्सेलेरेटर और अन्य तरीकों से जुड़ सकते हैं।

स्वतंत्र निवेशक और उद्यमी भी निजी कॉर्पोरेशन के शेयर खरीदने में रुचि दिखा सकते हैं, और वे निजी संस्थाओं के लिए धन का एक मूल्यवान स्रोत हो सकते हैं। 

कर्मचारी

कर्मचारियों के बीच ही कंपनी की इक्विटी साझा करना, कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को आकर्षित करने और बनाए रखने के लिए तेजी से इस्तेमाल किया जाने वाला तरीका बनता जा रहा है। चूंकि छोटी कंपनियों और स्टार्टअप के पास धन सीमित होता है, इसलिए वे अपने कर्मचारियों को मुआवजे देने के रूप में इस दृष्टिकोण का उपयोग करते हैं। 

कर्मचारियों को कंपनी में बने रहने के लिए बोनस प्रणाली के एक भाग के रूप में भी स्टॉक की पेशकश भी की जा सकती है, ऐसा इस उम्मीद में होता है कि कंपनी का विकास होगा और उसके स्टॉक की कीमत बढ़ेगी। 

बाय-बैक प्रोग्राम

जो कंपनियां अपने कर्मचारियों को इक्विटी शेयर ऑफर करती हैं, वे बाय-बैक सिस्टम ऑफर कर सकती हैं, जहां कंपनी कर्मचारियों से शेयर वापस खरीदती हैं।

कर्मचारी इस अवसर का उपयोग मौद्रिक मुआवज़े के लिए कर सकते हैं। हालाँकि, यह दृष्टिकोण काफी दुर्लभ है क्योंकि कंपनियां मूल रूप से इन शेयरों की पेशकश इसलिए कर रही होती हैं क्योंकि उनके पास पहले से ही पैसे की कमी होती है। 

निजी स्टॉक बेचने के लिए विचार की जाने वाली कुछ विशेष बातें

सार्वजनिक शेयरों की तुलना में निजी शेयरों के साथ अलग तरह से व्यवहार किया जाता है क्योंकि वे सार्वजनिक शेयरों की तरह सामान्य नहीं होते हैं, जहां कोई भी द्वितीयक बाजार में कोई भी स्टॉक खरीद सकता है। इसलिए, कुछ ऐसे कारक हैं जिन पर आपको विचार करने की ज़रूरत है।

प्री-आईपीओ शेयर

निजी कंपनियां और स्टार्टअप सार्वजनिक होने और आरंभिक सार्वजनिक पेशकश (आईपीओ) के लिए आवेदन करने पर विचार कर सकते हैं, जिसमें शेयरों का द्वितीयक बाजारों और स्टॉक एक्सचेंजों पर सार्वजनिक रूप से कारोबार होता है। 

जब कंपनी ऐसा करने के अपने इरादे की घोषणा करती है, तो वह प्री-आईपीओ बाजारों में से धन जुटाती है, वे ऐसे वेंचर कैपिटलिस्ट और संस्थागत निवेशक से पूँजी उठाती है, जो उस कंपनी के शेयरों में रुचि रखते हैं।

संस्थागत और व्यक्तिगत निवेशक इस उम्मीद में प्री-आईपीओ शेयर खरीद सकते हैं कि एक बार शेयरों के सार्वजनिक होने ऊनि कीमत बढ़ जाएगी, और फिर वे उन्हें द्वितीयक बाजारों में बेच सकते हैं और कुछ लाभ कमा सकते हैं।

इसलिए, कर्मचारियों की तरह ही कंपनी के शेयरधारक भी इस अवसर का लाभ उठा सकते हैं और वे इन्हें कई प्री-आईपीओ निजी शेयर बाजारों में अपने शेयर और होल्डिंग्स बेच सकते हैं, जहां कीमतें गैर-आईपीओ स्टॉक की तुलना में अधिक होती हैं।

गैर-प्री-आईपीओ शेयर

संस्थागत निवेशकों और उद्यमों को गैर-पूर्व-आईपीओ स्टॉक थोड़े चुनौतीपूर्ण लगते हैं, यहाँ निजी कंपनियां सार्वजनिक होने का इरादा नहीं रखती हैं। इसलिए, इन कंपनियों में रुचि या तो उनके सफल बिजनेस मॉडल या कंपनी के भविष्य के बारे में निवेशकों की अटकलों से प्रेरित होती है।

बिना प्री-आईपीओ कंपनियों के शेयरों को खरीदने और बेचने के लिए कोई बाजार नहीं है, और जो निवेशक इन्हें खरीदना चाहते हैं, वे शेयरों की उपलब्धता के बारे में जारी करने वाली फर्मों से संपर्क कर सकते हैं या फिर वे मौजूदा शेयरधारकों से शेयर की पुनर्खरीद किए होते हैं।

जो उद्यमी और निवेशक इन शेयरों को खरीदना चाहते हैं, वे मौजूदा शेयरधारकों के बारे में कर्मचारियों के ज्ञान से भी थोड़ा लाभ उठा सकते हैं और वे उन कर्मचारियों या सीधे निजी कंपनी से शेयर खरीदने का प्रयास कर सकते हैं।

संगठनात्मक प्रतिबंध

सार्वजनिक शेयरों के विपरीत, निजी शेयरों में स्वामित्व और स्वामित्व के हस्तांतरण के संबंध में कुछ प्रतिबंध होते हैं। इसलिए, यदि आप अपनी निजी कंपनी में शेयर रखते हैं, तो आपको किसी निवेशक या बाहरी खरीदार को अपने शेयर पेश करने से पहले अपनी कंपनी से अनुमति लेने की आवश्यकता होगी।

कंपनी बाहरी तौर पर अपने शेयर बेचने के आपके प्रस्ताव को अस्वीकार करने काअधिकार रखती है और वह आपको बाय-बैक कार्यक्रम की पेशकश कर सकती है, जहां वे अपनी नीतियों और मूल्यांकन के अनुसार आपसे स्टॉक वापस खरीद सकती है।

वैकल्पिक रूप से, यदि कंपनी इस बात से सहमत है कि आप अपने शेयर को टेंडर या अन्य तरीकों के द्वारा बाहरी रूप से बेचते हैं, तो आप इस प्रक्रिया में आगे बढ़ सकते हैं और अपने शेयर बेचने के लिए निवेशकों को ढूंढना शुरू कर सकते हैं। हालाँकि, सुनिश्चित करें कि आप अपनी कंपनी द्वारा निर्धारित सभी शर्तों को पूरा करते हैं, जिनमें शेयरों को बेचने से पहले विशिष्ट अवधि के लिए रखना या आपके द्वारा बेचने की अनुमति वाले शेयरों की संख्या आदि शामिल हो सकता है।

स्प्रेड

स्प्रेड बिक्री (आस्किंग) और खरीद (बोली) मूल्य के बीच का अंतर होता है, जिस पर आपको द्वितीयक बाजारों में या निवेशकों को अपने निजी शेयर बेचते समय विचार करने की आवश्यकता होती है। 

उदाहरण के लिए, यदि किसी स्टॉक का मूल्य $150 है और आपको प्राप्त होने वाली उच्चतम बोली $140 है, तो इस स्थिति में स्प्रेड $10 हुआ। यह एक छोटा सा अंतर लग सकता है, लेकिन यदि आपके पास काफी ज़्यादा शेयर हैं तो यह संख्या काफी ज़्यादा हो जाएगी, और ऐसे में आपको काफी नुकसान हो सकता है।

एक ओर, बाज़ार में ऊंची और सर्वोत्तम बोली की तलाश करना एक बेहतर विकल्प है। वहीं दूसरी ओर, निजी शेयरों की जोखिम भरी प्रकृति के कारण निवेशक हमेशा आपकी अपेक्षाओं पर खरे उतरने के लिए तैयार नहीं होते हैं, और हो सकता है कि इसी कारण आप अपने निजी शेयरों को नुकसान में बेचने की बजाय उन्हें बेच ही ना पाएं, और ऐसे में आप उन्हें बेचने का मौका गँवा सकते हैं।

निजी कंपनी के शेयर बेचने के चरण

यदि आपको अवसर मिल गया है और आपको अपने निजी तौर पर रखे गए शेयरों को द्वितीयक बाजारों में या बाहरी निवेशकों को बेचने की मंजूरी मिल गई है, तो अब आपके शेयरों का मूल्य निर्धारित करने और यह निर्धारित करने का समय आ गया है कि उन्हें कहाँ बेचना है।

स्टॉक मूल्य का मूल्यांकन

चूंकि निजी शेयर सार्वजनिक बाजारों में सूचीबद्ध नहीं होते, इसलिए आपूर्ति और मांग और बाजार की गतिशीलता के अभाव में उनका मूल्य निर्धारित करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। 

जारी करने वाली फर्म एक स्टॉक मूल्य निर्धारित कर सकती है, और अपने निजी शेयरों को बेचते समय आप इस मूल्यांकन का उपयोग कर सकते हैं। हालाँकि, आपके शेयरों का मूल्य निर्धारित करने के कुछ अन्य तरीके भी हैं।

1. रिटर्न की आंतरिक दर (IRR)

आईआरआर विश्लेषणएक जटिल वित्तीय उपकरण है जो किसी निवेश की लाभप्रदता को मापता है, यह स्टॉक मूल्य का मूल्यांकन करने का एक तरीका है। आईआरआर जितना अधिक होगा, उस शेयर में निवेश उतना ही बेहतर होगा, इसी तरह यह आपको यह दिशा दिखता है कि आपको अपने स्टॉक के मूल्य निर्धारण के लिए किसी दिशा में बढ़ना चाहिए।

यह गणना अधिक जटिल होती है क्योंकि इसमें ऋण, व्यवसाय का प्रदर्शन, आर्थिक स्थिति और कंपनी की बाजार हिस्सेदारी शामिल होती है।

2. डिस्काउंटेड कैश फ्लो विश्लेषण

डिस्काउंटेड कैश फ्लो विश्लेषण एक मानक वित्तीय मॉडल है जो भविष्य में कंपनी की नकदी उत्पन्न करने की क्षमता को मापता है। 

भविष्य में नकदी प्रवाह उत्पन्न करने की क्षमता के आधार पर यह अवधारणा निर्धारित करती है कि उस कंपनी में निवेश करना फायदेमंद है या नहीं। यदि विश्लेषण सकारात्मक है और किसी कंपनी में नकदी प्रवाह उत्पन्न करने की उत्कृष्ट क्षमता है, तो यह इस बात का एक सकारात्मक संकेत है कि स्टॉक का अधिक मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

3. तुलनीय सार्वजनिक-शेयर मूल्य

किसी निजी कंपनी के शेयर मूल्य का अनुमान लगाने के लिए समान व्यवसाय वाली सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनी ढूंढना सबसे आसान और सबसे आम तरीकों में से एक है। 

इस तरह, एक शेयरधारक को शेयर की कीमत और इस बात का एक यथार्थवादी दृष्टिकोण मिल जाता है कि कर्मचारी बाजार में या किसी निवेशक को अपने शेयर बेचने के लिए कितनी मांग करेगा।

स्टॉक प्लेसमेंट

निजी स्टॉक को सार्वजनिक स्टॉक एक्सचेंजों और द्वितीयक बाज़ारों में नहीं रखा जाता है। हालाँकि, ऐसी कई निजी प्लेसमेंट हैं जहाँ निजी कंपनियाँ योग्य निवेशकों और उद्यमियों को अपने शेयर बेच सकती हैं।

इस तरह, निजी संस्थाएं सार्वजनिक हुए बिना धन जुटा सकती हैं और अपने शेयर बेच सकती हैं, इसमें एसईसी का अनुपालन करना और जनता को वित्तीय विवरणों की रिपोर्ट देना शामिल है। 

इसलिए, निजी कंपनियां अपने शेयर बेचने के लिए निजी प्लेसमेंट को मूल्यवान मानती हैं, खासकर यदि उनके व्यवसाय में उत्कृष्ट संभावनाएं हैं जो उद्यम पूंजीपतियों और संस्थागत निवेशकों को आकर्षित करती हैं। 

हालाँकि, निजी बाज़ार इतने तरल नहीं होते, और शेयरों को बेचना आसान नहीं होता क्योंकि केवल सीमित संख्या में निवेशक, वित्तीय फर्म और उच्च-निवल मूल्य वाले व्यक्ति ही निजी प्लेसमेंट बाजार में आते हैं। 

इस मामले में, किसी कंपनी को स्टॉक बेचते समय सर्वोत्तम बोलीदाता मूल्य के साथ समझौता करने की आवश्यकता पड़ सकती है, और अगर वह अपनी तरलता को बढ़ाना चाहते हैं तो उन्हें काफी स्प्रेड या हानि का सामना करना पड़ सकता है। 

निष्कर्ष

सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों की तुलना में निजी कंपनी के शेयर बेचना चुनौतीपूर्ण और कम लचीला होता है। सार्वजनिक शेयर द्वितीयक बाजारों में सूचीबद्ध होते हैं, जहां कई व्यापारी और व्यक्ति शेयर खरीद और बेच सकते हैं, और इनमें बाजार की स्थितियों और व्यावसायिक गतिविधि के आधार पर स्टॉक की कीमत में उतार-चढ़ाव होता है।

हालांकि, निजी शेयर निजी प्लेसमेंट बाजारों में निवेशकों, उद्यम पूंजीपतियों और धनी व्यक्तियों की एक चयनित सूची को बेचे जाते हैं, जिनकी कंपनी के बिजनेस मॉडल या लाभप्रदता में रुचि होती है। 

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

क्या कोई प्राइवेट लिमिटेड कंपनी अपने शेयर बेच सकती है?

जी, हाँ। हालाँकि, निजी शेयर सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों की तरह द्वितीयक बाज़ारों और स्टॉक एक्सचेंजों में नहीं बेचे जा सकते। निजी शेयर संस्थागत निवेशकों और उद्यम पूंजीपतियों को निजी तौर पर या फिर निजी प्लेसमेंट बाजारों के माध्यम से योग्य निवेशकों के एक चयनित समूह को ही बेचे जाते हैं।

मैं किसी निजी कंपनी के अपने शेयरों का मूल्यांकन कैसे करूँ?

निजी स्टॉक मूल्य का मूल्यांकन करने के कई तरीके हैं। तुलनीय सार्वजनिक कंपनियाँ को ढूंढना इन तरीकों में से एक है, जहाँ निजी कंपनी की तुलना सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनी और उसकी कीमतों से की जाती है। अन्य तरीकों में आईआरआर विश्लेषण और डिस्काउंटेड कैश फ्लो जैसे वित्तीय विश्लेषण शामिल हैं।

किसी निजी कंपनी के शेयर कैसे काम करते हैं?

निजी कंपनियाँ मौजूदा निवेशकों और कर्मचारियों सहित हितधारकों के लिए शेयर जारी कर सकती हैं। इसके अलावा, निजी कंपनियां अपने व्यवसाय को चलाने के लिए पूंजी जुटाने के लिए निजी प्लेसमेंट और बाजारों में अपने शेयर बेच सकती हैं या एंजेल निवेशकों, उद्यम पूंजीपतियों, एक्सलेटर और अन्य वित्तपोषण तरीकों से अपने स्टॉक की पेशकश कर सकती हैं, जो उनके व्यवसाय को चालू रखने में मददगार सिद्ध होता है।

मैं किसी निजी कंपनी के शेयर कैसे बेचूं?

कर्मचारी किसी निजी कंपनी के अपने शेयर बेच सकते हैं, लेकिन इसके लिए उन्हें पहले अपनी कंपनी (जारीकर्ता फर्म) की अनुमति की आवश्यकता होती है। ऐसे में, जारीकर्ता कंपनी शेयरों को वापस खरीद सकती है या किसी कर्मचारी को बाहरी निवेशकों और वित्तीय संस्थानों को अपने शेयर बेचने की अनुमति दे सकती है।

द्वारा

Levan Putkaradze

गहरी वित्तीय पृष्ठभूमि वाला एक अनुभवी कॉपीराइटर और सुलभ, आकर्षक और मूल्यवान सामग्री तैयार करने की क्षमता। मैं इस क्षेत्र में आकर्षक सामग्री तैयार करके फिनटेक और क्रिप्टो की दुनिया के रहस्यों को उजागर करता हूं। मेरा मानना है कि हर जटिल अवधारणा, विचार और कार्यप्रणाली को समझने योग्य और रोमांचक तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है, और हर नए विषय के साथ उस तरीके को खोजना मेरा काम है। मैं लगातार खुद को ऐसी सामग्री तैयार करने के लिए चुनौती देता हूं जो अपने लक्षित दर्शकों के लिए अपरिहार्य मूल्य रखती है, जिससे पाठकों को बिना किसी परेशानी के तेजी से जटिल विचारों को समझने में मदद मिलती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Constantine Belov

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर