इस लेख में

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

व्हाइट लेबल फॉरेक्स बिजनेस स्टार्टअप लागत: किन चीज़ों का ध्यान रखें

आर्टिकल्स

Reading time

व्हाइट लेबल व्यवसाय FX के क्षेत्र में काफी लोकप्रिय बन गया है, जो मुद्रा विनिमय के व्यापार में पेशेवर विशेषज्ञता हासिल करने और ऐसे सोलूशन्स को समझने के लिए जरुरी ज्ञान प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है। 

साथ ही, आज बाज़ार में अधिक से अधिक उद्यमी FX के विभिन्न क्षेत्रों में केंद्रित सेवाएं प्रदान करने के लिए अपने स्वयं के प्रोजेक्ट्स लॉन्च करना चाहते हैं। इस सब के बीच फोरेक्स व्यापार की स्टार्टअप लागत ध्यान देने वाली पहली चीज़ है।

इस लेख में, आप फॉरेक्स व्हाइट लेबलिंग मॉडल के बारे में जानेंगे और समझनेगे कि यह कैसे काम करता है। आप इस मॉडल के फायदे और नुकसान और इसकी विविधताओं के बारे में भी जानेंगे। अंततः, हम आपको बताएंगे कि स्वयं का फोरेक्स व्हाइट लेबल प्रोजेक्ट शुरू करने में कितनी लागत आती है।

ध्यान रखने योग्य बातें

  1. व्हाइट लेबल फ़ॉरेक्स सिस्टम वित्तीय, समय और मानव संसाधनों की बचत करते हुए बाज़ार में शीघ्रता से घुसने का एक बेहतरीन तरीका प्रदान करती है।
  2. फोरेक्स व्हाइट लेबलिंग व्यवसाय शुरू करने की लागत में कई तत्व शामिल हैं, जिनमें से प्रमुख है बुनियादी ढांचा और टेक्नोलॉजी टूलींग।

फोरेक्स व्हाइट लेबलिंग क्या है?

फोरेक्स बाजार में उपयोग किया जाने वाला व्हाइट लेबल मॉडल एक सर्वव्यापी उपकरण है जो विभिन्न उत्पादों के साथ बाजार में नए सहभागियों को जोड़ना सरल बनाता है जो विभिन्न बाजार क्षेत्रों तक पहुंच प्रदान करने वाले समाधानों के साथ व्यावहारिक मदद प्रदान करता है। 

इस तरह के समाधानों में ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म और टर्मिनल, क्रिप्टो स्टोरेज के रूप में वॉलेट और भुगतान करने के लिए क्रिप्टो गेटवे, ग्राहक आधार के साथ काम करने के लिए CRM सिस्टम, और मार्केटिंग अभियान और ब्रांड प्रचार रणनीतियों को विकसित करने के लिए एफिलिएट मैनेजमेंट सिस्टम (AMS) शामिल हैं।

What is Forex White Labelling?

व्हाइट लेबल सॉल्यूशन फोरेक्स में सेवाओं और प्रणालियों का एक सेट शामिल है जो किसी अन्य फर्म की व्यावसायिक प्रक्रियाओं में व्यावहारिक उपयोग के ढांचे के भीतर इसके स्थिर और उचित कामकाज को सुनिश्चित करता है ताकि इसे इस मॉडल की सभी सुविधाओं को पूरी तरह से उपयोग करने की अनुमति मिल सके। एक नियम के रूप में, यह सेट दो मुख्य हिस्सों – फ्रंट एंड और बैक ऑफिस को मिलाकर बना एक रेडीमेड इंफ्रास्ट्रक्टर है। 

पहला सीधे यूजर इंटरफेस के बाहरी तत्वों के लिए जिम्मेदार है, जिनका सीधे इस्तेमाल किया जाता है। दूसरा सिस्टम पैरामीटर्स तक पहुंच प्रदान करता है जो पृष्ठभूमि में कार्य करते है और समाधान के तकनीकी (सॉफ़्टवेयर) भाग का प्रतिनिधित्व करता है।

व्हाइट लेबलिंग फोरेक्स क्षेत्र में सबसे लोकप्रिय व्यवसाय मॉडलों में से एक है, जो आपको एक कंपनी के उत्पादों को किसी दूसरे के काम में उपयोग करने की अवधारणा को पूरा करता है।

त्वरित तथ्य

फॉरेक्स व्हाइट लेबलिंग के फायदे और नुकसान

FX उद्योग में व्हाइट लेबल मॉडल ने टेक्नोलॉजी, दक्षता और लागत के अपने शानदार कॉम्बिनेशन के कारण लोकप्रियता हासिल की है, जिससे इस योजना के अनुसार काम करने वाले सोलूशन्स की बड़ी मांग पैदा हुई है।

किसी भी अन्य कांसेप्ट की तरह, फोरेक्स डब्लूएल मॉडल के फायदे और नुकसान हैं, साथ ही संचालन की कुछ ख़ासियतें भी हैं, जिन पर अपना प्रोजेक्ट लॉन्च करने से पहले ध्यान दिया जाना चाहिए।

Advantages and disadvantages of Forex White Label model

फोरेक्स व्हाइट लेबलिंग मॉडल की खासियत

सबसे पहले, आइए उन प्रमुख सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान दें जो प्रत्येक व्हाइट लेबल फॉरेक्स सोलूशन में मौजूद होते हैं।

1. बना-बनाया इंफ्रास्ट्रक्चर

कोई भी व्हाइट लेबल सोलूशन कुछ निर्देशों के तहत काम करने के लिए तैयार किया एक इंफ्रास्ट्रक्चर होता है, जिसमें विभिन्न डिपेंडेंट एलिमेंट शामिल होते हैं, जो किसी विशेष प्रक्रिया के अंतर्गत विभिन्न कार्यों को पूरा करते हैं। यह आपको बहुत अधिक समय और पैसा खर्च किए बिना मनचाहा परिणाम प्राप्त करने के लिए सोलूशन का उपयोग करने की सुविधा देता है।

2. कस्टमाईजेशन

व्हाइट लेबल कस्टमाईजेशन फोरेक्स ब्रोकर्स को एक बेहतरीन उत्पाद बनाने के लिए अपनी कल्पना का उपयोग करने की अनुमति देता है जो कंपनी के मानकों और प्रस्तुति को पूरा करती है। अधिकांश समाधानों में, चाहे व्हाइट लेबल ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म हो या सीआरएम सिस्टम, प्रदर्शन और विज़ुअल डिज़ाइन के बीच सही संतुलन प्राप्त करने के लिए प्रत्येक उपलब्ध पैरामीटरों को कस्टमाईज करना संभव है।

4.विस्तार

स्केलेबिलिटी FX व्हाइट लेबल उत्पादों की आंतरिक प्रणालियों और तत्वों के डिजाइन को बदलने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर की एक सुविधा है, साथ ही नई परिस्थितियों में काम करने के लिए उनका अनुकूलन, उदाहरण के लिए, उनकी क्षमताओं का विस्तार करने के लिए डिज़ाइन की गई तृतीय-पक्ष सेवाओं के साथ काम करना। यह दक्षता सीधे WL सॉफ़्टवेयर के उपयोग की समग्र दक्षता को प्रभावित करती है, जो सीधे WL सॉफ़्टवेयर के उपयोग की समग्र दक्षता को प्रभावित करती है।. 

फोरेक्स व्हाइट लेबलिंग मॉडल की कमजोरियाँ

अब, आइए FX क्षेत्र में उपयोग किए जाने वाले WL उत्पादों में मौजूद कुछ कमियों पर नजर डालें।

1. अग्रिम लाइसेंस भुगतान 

इस नुकसान के संदर्भ में, लाइसेंस एक डिजिटल अनुमति है जो किसी विशेष कंपनी के भीतर किसी उत्पाद या सेवा का उपयोग करने और फिर इसे अंतिम उपयोगकर्ताओं को बेचने का अधिकार देता है। सोल्युशन के प्रकार और उसके कार्य की चिंता किए बिना, एक नियम के रूप में, एक लाइसेंस जिसके अंतर्गत डब्ल्यूएल मॉडल को उपयोग करने और बाद में बेचने का अधिकार होता है उसकी उच्च लागत होती है, जिसका भुगतान तुरंत किया जाना चाहिए।

2. पूर्ण नियंत्रण की कमी

डब्ल्यूएल प्रोजेक्ट विकसित करने वाले प्रत्येक फोरेक्स ब्रोकरेज व्यवसाय को किसी अन्य उत्पाद की तुलना में अंतिम उपयोगकर्ताओं को प्राप्त सोल्युशन में पूर्ण नियंत्रण नहीं होने की समस्या का सामना करना पड़ता है। 

इसलिए, उदाहरण के लिए, यदि डेवलपर कंपनी उत्पाद के किसी भी फीचर या फ़ंक्शन को बदलती है, तो WL बिजनेस मॉडल का उपयोग करने वाली कंपनी अपनी प्राथमिकताओं के अनुसार इसके संशोधन या परिवर्तन को प्रभावित नहीं कर पाएगी।

3.कोई बौद्धिक संपदा अधिकार नहीं

व्हाइट-लेबल सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने की सबसे बड़ी कमी यह है कि रिसेलर्स के पास उनके द्वारा बेचे जा रहे उत्पादों के बौद्धिक संपदा अधिकारों का स्वामित्व नहीं होता है। इससे छोटी कंपनियों के लिए अधिक संसाधनों और अपने स्वयं के उत्पादों को लॉन्च करने में सक्षम बड़े कारपोरेशनों के साथ प्रतिस्पर्धा करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

हो सकता है कि किसी छोटी कंपनियों के पास अपनी इन-हाउस डेवलपमेंट टीम या मार्केटिंग विभाग नहीं हो और इसलिए, सहायता के लिए अन्य कंपनियों द्वारा आउटसोर्सिंग पर निर्भर रहती हैं।

पूर्ण और आंशिक व्हाइट लेबल फोरेक्स सोल्युशन – क्या बेहतर है?

एक पूर्ण व्हाइट लेबल मॉडल का उपयोग करके, ग्राहकों के ट्रांजेक्शन की स्प्रेड और कमीशन को कॉन्फ़िगर करना, खाता खोलना और ग्राहकों के लिए जमा और निकासी के लिए तीसरे पक्ष के भुगतान चैनल उपलब्ध करना संभव है। 

ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म सहित किसी भी उत्पाद को फर्म के लोगो के साथ ब्रांड किया जा सकता है। पूर्ण और आंशिक व्हाइट-लेबल मॉडल के बीच मुख्य अंतर यह है कि पहला सीधे ग्राहक के फंड का प्रबंधन कर सकता है। इस मामले में, इसे व्हाइट लेबल सेवा प्रदान करने वाले ब्रोकर को स्थानांतरित करना आवश्यक है।

आंशिक व्हाइट लेबल मॉडल में, यह नियामक पंजीकरण प्रदान किए बिना ट्रेडिंग फर्म को अपनी सेवाएं प्रदान करता है। दूसरी ओर, पूर्ण व्हाइट लेबल मॉडल ट्रेडिंग फर्मों के लिए नियामक पंजीकरण, एक प्लेटफॉर्म और स्थिर कोट सिस्टम प्रदान करता है। 

इन कोट सिस्टम में सोना, विदेशी मुद्रा, कच्चे तेल, सूचकांक, स्टॉक और बाजार चैनलों के लिए ऑनलाइन कोट शामिल होते हैं। पूर्ण WL मॉडल नियमित ट्रेडर्स के दैनिक वर्कफ़्लो के साथ विभिन्न विभागों में प्रशिक्षण भी प्रदान करता है, जैसे back-office, ग्राहक सेवा, और बाज़ार विकास।

व्हाइट लेबल एफएक्स बिजनेस स्टार्टअप चलाने की लागत

व्हाइट लेबल फोरेक्स व्यवसाय शुरू करने से पहले, प्रत्येक FX ब्रोकरेज हाउस इस तरह के सोलुशन को विकसित करने की लागत के बारे में सोचता है, उचित बजट की योजना बनाता है और इसके कार्यान्वयन की व्यवहार्यता का विश्लेषण करता है। 

कई चीज़ों पर फोरेक्स व्हाइट लेबल लागत निर्भर करती हैं, जिनमें से प्रत्येक के पूर्ण लॉन्च के लिए आवश्यक बजट स्थापित करने के लिए सावधानीपूर्वक गणना की आवश्यकता होती है। आइए नीचे उन पर चर्चा करें:

Costs to Consider When Running a White Label Forex Business

इंफ्रास्ट्रक्चर और टेक्नोलॉजी लागत

फोरेक्स व्हाइट लेबल ब्रोकरेज की शुरुआत हमेशा इसके इंफ्रास्ट्रक्चर और तकनीकी घटक, जैसे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म से संबंधित होती है। उनकी ही गुणवत्ता सोल्युशन के सभी चीज़ों की विश्वसनीयता निर्धारित करेगी। 

टेक्नोलॉजी की कीमत इस बात पर निर्भर करती है कि रेडीमेड प्लेटफॉर्म खरीदा गया है या व्हाइट लेबल फोरेक्स ब्रोकरेज हाउस की जरूरतों के अनुरूप कस्टमाइज्ड प्रोडक्ट खरीदा गया है।

नियामक और लाइसेंसिंग लागत

व्हाइट लेबल फोरेक्स ब्रोकर लागत के इस हिस्से में नियामक और कानूनी दस्तावेजों की लागत शामिल होते है जो डेवलपर्स को व्हाइट लेबल मॉडल के तहत सोल्यूशन्स का उपयोग करने का अधिकार देता है। 

इस मामले में, कीमत इस्तेमाल किए गए उत्पाद के प्रकार, यानी उसके इच्छित उद्देश्य पर निर्भर करती है। कीमत कंपनी पर भी निर्भर हो सकती है, क्योंकि बेहतर-प्रसिद्ध ब्रांड हमेशा अपने सामान और सेवाओं की ऊंची कीमतें रखते हैं।

मार्केटिंग और ब्रांडिंग लागत

मार्केटिंग और ब्रांडिंग किसी भी व्यवसाय में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और फोरेक्स कोई अपवाद नहीं है। व्हाइट लेबल मॉडल के आधार पर बेचने के लिए एक सफल फोरेक्स ब्रोकर कंपनी बनाने के लिए, इसके आगे के प्रचार का ध्यान रखना आवश्यक है, जिसमें कई अलग-अलग तरीके शामिल हैं।

जोखिम प्रबंधन और लिक्विडिटी लागत 

इस लागत में प्लेटफ़ॉर्म पर एक सुचारु फोरेक्स ट्रेडिंग प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए लिक्विडिटी के स्रोतों को खोजने और जोड़ने के उद्देश्य से गतिविधियाँ शामिल होंगी। सबसे अच्छे फोरेक्स व्हाइट लेबल सोल्युशन्स में विभिन्न कंपनियों से लिक्विडिटी की विश्वसनीय आपूर्ति के साथ-साथ अप्रत्याशित बाजार स्थितियों के मामले में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आधुनिक जोखिम प्रबंधन उपकरण भी होते हैं।

अनुपालन और कानूनी सहायता लागत

उदाहरण के लिए, व्हाइट लेबल फ़ॉरेक्स एक्सचेंज बनाते समय, फोरेक्स गतिविधि को विनियमित करने वाले सभी मौजूदा विधायी दस्तावेज़ों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए कानूनी विशेषज्ञों का समर्थन प्राप्त करना आवश्यक है। यह एक विशेष पहलू है, क्योंकि फोरेक्स दुनिया में सबसे अधिक विनियमित क्षेत्रों में से एक है।

पेमेंट प्रोसेसिंग लागत

भुगतान प्रसंस्करण किसी भी वित्तीय सेवा का एक अभिन्न अंग है, इसलिए सर्वोत्तम व्हाइट लेबल फोरेक्स ब्रोकर या बाजार के लिए कोई अन्य सोल्युशन बनाने के लिए, आपको प्लेटफ़ॉर्म के लिए एक विश्वसनीय प्रोसेसिंग उपकरण ढूंढना और कनेक्ट करना होगा।

ट्रेडिंग उपकरण लागत

इस आइटम में संभावित उपयोगकर्ताओं की ट्रेडिंग के लिए पूंजी बाजारों को प्लेटफार्म से जोड़ने की लागत शामिल है। अधिकांश फोरेक्स ब्रोकर वर्तमान में न केवल FX बाजार तक पहुंच प्रदान करते हैं, बल्कि सीएफडी, डेरिवेटिव आदि तक भी पहुंच प्रदान करते हैं, इसलिए इस प्रक्रिया में जितने अधिक बाजार जुड़े होंगे, फाइनल प्रोडक्ट की कीमत उतनी ही अधिक होगी।

कुल मिलाकर, व्हाइट-लेबल फोरेक्स ब्रोकरेज सेटअप लागत 35,000 डॉलर से 100,000 डॉलर तक हो सकती है। अंतिम परिणाम (पूर्ण या आंशिक) आपके द्वारा चुने गए WL मॉडल पर निर्भर करता है। जीरो से FX ब्रोकरेज बनाने के लिए आवश्यक 500,000 डॉलर की तुलना में, यह कहीं अधिक किफायती है। यह प्रमुख कारक नए लोगों को भरोसेमंद व्हाइट-लेबल प्रदाताओं के साथ काम करने के लिए प्रेरित करता है।

निष्कर्ष

विदेशी मुद्रा व्यापार स्टार्टअप लागत में ढेरो चीज़ें और बजट योजना शामिल होती है जो एक संपूर्ण सोल्युशन बनाती है। इस क्षेत्र में आधुनिक प्रौद्योगिकी के उपयोग से WL उत्पादों के क्षेत्र में बड़ी कंपनियों के बीच अपनी जगह बनाना संभव हो गया है।

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर