इस लेख में

द्वारा

Constantine Belov

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

फिनटेक और वित्त उद्योगों में KYC/KYB टेक्नोलॉजी की भूमिका

आर्टिकल्स

Reading time

क्रिप्टोकरेंसी टेक्नोलॉजी के लोकप्रिय होने से वित्तीय क्षेत्र में बड़े पैमाने पर बदलाव आया है, और यह बदलाव वित्तीय समाधानों और टेक्नोलॉजी को संयोजित करने वाली अवधारणा के बीच व्यवसायों और उनके ग्राहकों के बीच संचार का एक नया तरीका विकसित करने का प्रेरक बना है, जिसे बेहतर रूप से फिनटेक के रूप में जाना जाता है।

फिनटेक समाधानों के साथ-साथ क्रिप्टोकरेंसी टेक्नोलॉजी की बढ़ती लोकप्रियता, विभिन्न प्रकार के व्यवसाय के ग्राहकों की संपत्ति की सुरक्षा के मुद्दे पर बढ़ते ध्यान का कारण बन गई है, जिसने वित्तीय उद्योग में मौजूद व्यक्तियों और कानूनी संस्थाओं के बीच संचार की प्रक्रिया में KYC (अपने ग्राहक को जानें/Know your customer) और KYB (अपने व्यापर को जानें/Know your business) सत्यापन टेक्नोलॉजी के विकास और इन्हें अपनाने की अनुमति दी है।

यह लेख KYC/KYB टेक्नोलॉजी और इनके बीच के अंतर और वित्तीय क्षेत्र विनियमन के ढांचे के भीतर इनके विकास की संभावनाओं को समझने में आपकी मदद करेगा।

प्रमुख बिंदु

  1. KYC और KYB प्रक्रियाएं वे नवीन टूल्स हैं जो वित्तीय क्षेत्र में उपयोगकर्ताओं की पहचान करने के उद्देश्य से, सत्यापन उपायों की एक पूरी श्रृंखला प्रदान करते हैं।
  2. KYC और KYB टेक्नोलॉजी समाधानों का एक समूह बनाती हैं, जो मनी लॉन्ड्रिंग से निपटने के लिए AML प्रणाली का एक हिस्सा हैं।
  3. भविष्य में, AI और मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी की बदौलत, ये दोनों प्रकार की पहचान सत्यापन प्रक्रियाएं व्यक्तियों की पहचान या कानूनी संस्थाओं की वैधता का आकलन करने के लिए अतिरिक्त कार्यक्षमता का उपयोग कर पाएंगी।

KYC टेक्नोलॉजी क्या है और यह कैसे काम करती है?

आज, KYC टेक्नोलॉजी फिनटेक कंपनियों और वित्तीय दुनिया में मौजूद अन्य संस्थाओं के साथ उनके संचार (सहयोग) के ढांचे के भीतर उपयोगकर्ताओं की पहचान करने के तरीकों का एक विश्वव्यापी तरीका है। सुरक्षा प्रणाली के मूलभूत तत्वों में से एक होने के कारण कस्टमर ड्यू डिलिजेंस मॉडल, EDD और इसका अधिक विस्तारित संस्करण, एन्हांस्ड ड्यू डिलिजेंस के सिद्धांतों के आधार पर, KYC प्रक्रिया उन्नत पेशेवर उपकरणों की एक विस्तृत श्रृंखला तक पहुंच प्रदान करती है और यह व्यवसायों और उनके ग्राहकों के बीच संचार के लिए एक सुरक्षित वातावरण बनाए रखने में मदद करती है।

किसी भी KYC समाधान के प्रोटोकॉल को विभिन्न प्रोग्रामिंग भाषाओं का उपयोग करके लिखा जाता है और यह उपयोगकर्ता सत्यापन प्रक्रिया का वर्णन करने वाले सुरक्षा मानकों के कई पहलुओं को ध्यान में रखते हुए वित्तीय दुनिया में अधिकांश संस्थाओं के सहयोग से नए खातों को पंजीकृत करने का एक अभिन्न अंग बन चुका है। शीर्ष-स्तरीय वित्तीय सुरक्षा प्रोटोकॉल में एम्बेडेड मॉडल का उपयोग करना, विशेष रूप से, वित्त से संबंधित सभी क्षेत्रों में उपयोग किया जाने वाले व्यक्तिगत डेटा एन्क्रिप्शन, इसी कारण KYC तकनीक अपनी तरह का एकमात्र उपकरण है जो प्रत्येक उपयोगकर्ता की पहचान करने के लिए व्यापक ग्राहक पहचान सत्यापन और विश्लेषण के उद्देश्य से आवश्यक उपायों की एक पूरी श्रृंखला प्रदान करता है, जो निवेश और अन्य समान प्रकार के उत्पादों के साथ काम करते समय उच्च स्तर का विश्वास और विश्वसनीयता प्राप्त करने में मदद करता है।

नई पीढ़ी की टेक्नॉलजी में तेजी से हो रहे विकास, विशेष रूप से, आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और ब्लॉकचेन के कारण, KYC प्रक्रिया ने वित्त की दुनिया में किसी भी प्रकार की संस्थाओं के साथ संचार करने वाले उपयोगकर्ताओं की पहचान की एक व्यापक प्रक्रिया प्रदान करने वाले डिज़ाइन किए गए सिस्टम और टूल की दुनिया में एक नया मुकाम हासिल किया है, विशेष रूप से उन वित्तीय संस्थानों के साथ जो पूंजी बाजार में हो रहे व्यापार तक पहुंच प्रदान करते हैं, चाहे वह विदेशी मुद्रा, क्रिप्टोकरेंसी या जटिल डेरिवेटिव ही क्यों न हों। AI की मदद से, उपयोगकर्ताओं की पहचान को सत्यापित करने के हिस्से के रूप में संदिग्ध गतिविधि, वित्तीय अपराध के संकेत, मनी लॉन्ड्रिंग, आतंकवादी वित्तपोषण, धोखाधड़ी गतिविधि और कानूनी मानदंडों के विपरीत अन्य गतिविधियों को पहचानने के लिए KYC की प्रकिर्या में इंटेलिजेंट सिस्टम का उपयोग करना संभव हो गया है।

मार्केट क्वाड्रेंट्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2022 तक, कई KYC समाधान विक्रेता AI और मशीन लर्निंग-आधारित टेक्नोलॉजी को अपनाने पर जोर दे रहे हैं।

त्वरित तथ्य

KYB टेक्नोलॉजी क्या है और यह कैसे काम करती है?

KYB एक वह सत्यापन प्रक्रिया है जिसका उपयोग तब किया जाता है जब एक व्यवसाय दूसरे व्यवसाय के साथ संचार करता है। यह KYC की तरह ही व्यावसायिक ग्राहकों की पहचान स्थापित करने और सत्यापित करने में मदद करता है। संबंधित संगठन के साथ व्यावसायिक साझेदारी शुरू करने से जुड़े जोखिम के स्तर का भी इसके द्वारा सटीक मूल्यांकन किया जा सकता है। KYB के उपयोग से, कंपनियां यह पता लगा सकती हैं कि क्या कोई इकाई एक वैध कॉर्पोरेशन है या यदि उसके मालिकों ने एक शेल कंपनी बनाई है – शेल कंपनी एक ऐसा व्यवसाय होती है जो किसी प्रकार की अवैध गतिविधि के लिए एक छलावे के रूप में कार्य करती है।

किसी व्यवसाय की वैधता के सत्यापन के बाद, उद्यम की स्वामित्व संरचना, जिसमें निदेशक और अंतिम लाभकारी स्वामी (UBO) शामिल होते हैं, निर्धारित की जाती है। यह पता लगाया जाता है कि ये लोग कौन हैं, इससे कंपनी की वैधता, आपराधिक गतिविधि से किसी भी तरह का संबंध और गुमनाम पार्टियों की भागीदारी के बारे में जानकारी पता लगाने में सहायता मिल सकती है। इसके अलावा, KYB प्रक्रिया यह खुलासा करके जोखिम का मूल्यांकन करने में कंपनियों की सहायता कर सकती है कि क्या जांच के तहत संगठन या व्यक्तियों को कभी दंड का सामना करना पड़ा है, क्या उन्हें किसी अपराध का दोषी पाया गया है, या क्या उनके पिछले कार्यों के कारण उन पर कुछ इलज़ाम लगाए गए हैं।

KYC टेक्नॉलजी के मामले में, यह उम्मीद की जाती है कि AI और मशीन लर्निंग टेक्नोलॉजी पर आधारित उपकरणों की कार्यक्षमता की शुरूआत के कारण KYB समाधान भी विकास के एक नए दौर से गुज़रेंगे, यह विकास आपकी व्यावसायिक आवश्यकताओं को जानने का एक विश्वसनीय पारिस्थितिकी तंत्र बनाने में मदद करेगा जिसमें गतिविधियों की व्यक्तिगत विशेषताओं को ध्यान में रखते हुए व्यावसायिक संबंधों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की प्रक्रिया के सभी पहलू शामिल होंगे। इनमें सभी वित्तीय परिचालनों की रिकॉर्डिंग और ऑटोमेटड प्रसंस्करण, तुरंत प्रतिक्रिया के लिए सांख्यिकीय डेटा और गतिविधि की ऐतिहासिक तस्वीर के मॉडल के आधार पर दो कंपनियों के बीच बातचीत के चैनलों की निगरानी और विश्लेषण और धोखाधड़ी गतिविधि के किसी भी संकेत को खत्म करना भी शामिल होगा।

KYC/KYB की तुलना: वित्तीय क्षेत्र में इन्हे लागू करने में मुख्य अंतर और इनकी विशेषताएं

जैसा कि ऊपर बताया गया, KYC और KYB टेक्नॉलजी उपायों की एक पूरी शृंखला है, KYC का उद्देश्य एक वित्तीय संस्थान के साथ संचार करने वाले व्यक्ति की पहचान करना और KYB का उद्देश्य आपस में संचार करने वाली व्यावसायिक इकाइयों के बारे में व्यापक जानकारी प्राप्त करना है। दोनों प्रकार की प्रक्रियाओं का एक ही लक्ष्य है – किसी भी प्रकार की अवैध गतिविधि से जुड़े प्रतिकूल परिणामों की संभावना को कम करना या उन्हें पूरी तरह से समाप्त करना। साथ ही, इन्हें लागू करने में कई महत्वपूर्ण अंतर और कई विशिष्टताएं हैं, जिनके बारे में नीचे जानकारी दी गई है।

कार्यविधि और प्रक्रियाएं

KYC प्रक्रियाएं लगभग सभी वित्तीय संरचनाओं के साथ-साथ विदेशी मुद्रा ब्रोकरेज हाउस और क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, साथ ही वित्तीय संस्थान विदेशी मुद्रा, स्टॉक और अन्य प्रकार के पूंजी बाजारों में व्यापार से संबंधित विभिन्न सेवाएं प्रदान करने वालों पर लागू होती हैं। KYC प्रक्रिया में ग्राहक पहचान सत्यापन, व्यापक AML मॉनिटरिंग प्रक्रिया शामिल होती हैं, जो मनी लॉन्ड्रिंग के संकेतों की पहचान करने में मदद करती है, और यह एक बहु-स्तरीय जोखिम मूल्यांकन प्रणाली है, जो किसी को यह निष्कर्ष निकालने में मदद करती है कि क्या किसी विशेष ग्राहक के साथ व्यापार करना चाहिए या नहीं।

वहीं दूसरी ओर, KYB प्रक्रिया का मतलब कानूनी इकाई (व्यवसाय) की वैधता को सत्यापित करने के लिए उपायों के एक सेट का उपयोग करना है, जिसमें उसके लाइसेंस और संचालन के लिए विशेष परमिट का विश्लेषण करना भी शामिल होता है। इसके अलावा, KYB शेयरधारक संरचना और UBO (अंतिम लाभकारी स्वामी) का मूल्यांकन, सहयोग की प्रक्रिया में उत्पन्न होने वाले व्यावसायिक जोखिमों का मूल्यांकन, साथ ही संगठन की व्यावसायिक प्रक्रियाओं की निरंतर निगरानी, और ​​​​परिवर्तन के परिणामों को समझने में मदद करता है। ये सभी कारक व्यवसाय संचालन की सुरक्षा के स्तर को निर्धारित करते हैं।

उपयोग और उद्देश्य

KYC प्रक्रिया में वित्तीय सेवा प्रदाताओं और अन्य वित्तीय संस्थानों की सेवाओं या उत्पादों का उपयोग करने के इच्छुक ग्राहकों की पहचान के दस्तावेजों, बायोमेट्रिक्स, पते, संपर्क नंबर आदि की जांच करके उनकी पहचान का व्यापक और गहन सत्यापन शामिल है। KYC जांच में प्रत्येक ग्राहक के संभावित आपराधिक जोखिम का आकलन करना, संदिग्ध गतिविधि की लगातार निगरानी करना और सभी व्यक्तिगत, वित्तीय और अन्य प्रकार के दस्तावेजों को संग्रहीत करना भी शामिल है।

वहीं दूसरी तरफ, KYB प्रक्रिया में कंपनी की कानूनी स्थिति और स्वामित्व, उसके पंजीकरण डेटा और इसकी पुष्टि करने वाले सभी संबंधित दस्तावेजों के सत्यापन से संबंधित कई प्रक्रियाएं शामिल होती हैं, जो कंपनी की वित्तीय शोधन क्षमता और व्यवहार्यता, साथ ही वैधता की पुष्टि करती हैं। KYB प्रक्रिया में कंपनी की कानूनी स्थिति और स्वामित्व, उसका पंजीकरण डेटा और उसकी वित्तीय विश्वसनीयता और वैधता की पुष्टि करने वाले सभी संबंधित दस्तावेजों की पुष्टि करने से संबंधित कुछ प्रक्रियाएं भी शामिल होती हैं।

समाधान और चुनौतियाँ

अब, KYC तकनीक का उपयोग पहचान की चोरी में जटिल तरीकों के उपयोग के कारण अधिक व्यापक हो गया है, जिससे धोखाधड़ी या वित्तीय अपराध से संबंधित अन्य आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए किसी अन्य व्यक्ति की पहचान का अवैध उपयोग शामिल होता है। डिजिटल पहचान सत्यापन इस समस्या का समाधान प्रदान करता है। दूसरी ओर, जाली या विकृत पहचान दस्तावेजों के उपयोग की समस्या को बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण प्रणाली द्वारा हल किया गया है।

सत्यापन प्रक्रियाओं के मानकीकरण की कमी के कारण KYB समाधानों का उपयोग बाधित हो जाता है, क्योंकि KYB सत्यापन करने या इसकी प्रभावशीलता को मापने का कोई स्पष्ट या विश्वव्यापी तरीका नहीं है। टेम्प्लेट इवैलुएशन मॉडल के साथ KYB सेवाओं का उपयोग करके इस समस्या का समाधान किया जाता है। दूसरी ओर, इस प्रक्रिया में एक जटिल कार्य संरचना होती है क्योंकि व्यवसाय की पूरी तस्वीर प्राप्त करने के लिए अक्सर कई स्रोतों और मूल्यांकन उपकरणों जैसे वाणिज्यिक या सार्वजनिक रजिस्टर, AML और KYC जांच की आवश्यकता होती है।

टेक्नोलॉजी और इनोवेशन

आज, KYC और KYB दोनों ही प्रणालियाँ बदलती टेक्नोलॉजी के साथ खुद को अप टू डेट रखते हुए प्रामाणिकता और वैधता के लिए किसी भी प्रकार के डेटा का विश्लेषण करने की कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए आर्टिफिशल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर आधारित उन्नत समाधानों का उपयोग करती हैं। 

उदाहरण के लिए, AI एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग स्क्रीनिंग जैसी प्रक्रियाओं को स्वचालित कर किसी व्यक्ति या इकाई के जोखिम स्तर को निर्धारित करती है, जबकि OCR सिस्टम डेटा निकालने और उपयोगकर्ताओं के पहचान दस्तावेजों के साथ लाइव सेल्फी को मिलाने में मदद करता है। वहीं दूसरी तरफ, ब्लॉकचेन लेनदेन रिकॉर्ड को अधिक सुरक्षित और पुनर्प्राप्त करने और उसे जानने में आसान बना कर, विश्वास और गोपनीयता बढ़ाता है और सत्यापन प्रक्रिया को सरल बनाता है।

नियामक और कानूनी ढांचे

KYC आवश्यकताएं कुछ समय से मौजूद हैं और इसलिए, समय के साथ इनमें सुधार किया गया है, जिससे ये अधिक सरल हो गई हैं। कई देशों में KYC के संबंध में कानून भी स्थापित के गए हैं जो स्वीकार्य और निषिद्ध दोनों प्रक्रियाओं की रूपरेखा तैयार करते हैं, इसमें प्रक्रिया के दौरान उपयोग किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर भी शामिल हैं। अब आईडी जांच व्यवसाय अत्यधिक विकसित हो गया है, और स्थापित दिशानिर्देश निर्दिष्ट करते हैं कि इस प्रक्रिया को कैसे पूरा किया जाना चाहिए।

इसके विपरीत, KYB नियमों को लेकर काफी अनिश्चितता है, जिसके कारण कंपनियों और KYB प्रदाताओं द्वारा पालन की जाने वाली प्रक्रियाओं में महत्वपूर्ण भिन्नताएं होती हैं। इन्हें मानक बनाने की प्रक्रिया अभी भी जारी है। बुनियादी प्रक्रियाएं और निर्देश, जैसे कि यह पता लगाना कि असली मालिक कौन हैं, प्रतिबंधों का पता लगाना, कम से कम दो भरोसेमंद डेटा स्रोतों का उपयोग करना सुनिश्चित करना और किसी के जोखिम लेने की क्षमता अनुसार जोखिम का मूल्यांकन करना, इन सभी को कानून में अस्पष्ट रूप से उल्लिखित किया गया है।

वित्तीय नियामक ढांचे में KYC और KYB का भविष्य

डिजिटलीकरण की प्रक्रिया मानव गतिविधि के सभी क्षेत्रों में अपनी पहचान बना रही है, और विशेष रूप से यह अर्थव्यवस्था की संरचना में मूलभूत क्षेत्रों में से एक के न एक रूप में वित्तीय क्षेत्र से संबंधित है। ब्लॉकचेन सहित विभिन्न टेक्नोलॉजी में हुए सुधार, विभिन्न वित्तीय संगठनों के लिए अनेकों अवसर प्रदान कर रहे हैं, और ये पूंजी बाजार में धन लेनदेन से संबंधित अविश्वसनीय रूप से बड़ी संख्या में विभिन्न समाधान और प्रणालियों की पेशकश कर रहे हैं।

KYC और KYB प्रणालियों के उपयोग पर आधारित मौजूदा सुरक्षा पद्धतियां बैंकिंग संगठनों, वित्तीय संस्थानों से लेकर वित्तीय क्षेत्र के कई क्षेत्रों में व्यावहारिक रूम से काम आती हैं, और इन्होंने अपनी कार्यक्षमता के कारण विशेष लोकप्रियता हासिल की है। साथ ही, वर्तमान KYC और KYB उपकरण, सुरक्षा का एक संतोषजनक स्तर प्रदान करते हैं और धोखाधड़ी गतिविधि का पता लगाने के लिए आवश्यक जांच प्रोटोकॉल का समर्थन करते हैं, लेकिन इनमें अभी भी अपराधियों के व्यवहार के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी कुछ कमियाँ शामिल हैं, और अपराधी भी विभिन्न तरीकों का उपयोग करके उपयोगकर्ताओं के व्यक्तिगत डेटा तक पहुँच प्राप्त करते हैं।

सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध नई तकनीकी सफलताओं की अभूतपूर्व उपलब्धता के कारण, यह उम्मीद की जा सकती है कि भविष्य में, KYC और KYB जैसे पहचान और व्यावसायिक वैधता सत्यापन उपकरण अपनी कार्यक्षमता और संचालन सिद्धांतों में महत्वपूर्ण बदलावों से गुजरेंगे। सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तनों में से एक है कि उम्मीद की जा सकती है कि KYC और KYB की मैन्युअल प्रक्रियाएं पूर्ण रूप से स्वचालित हो जाएंगी। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग थका देने और दोहराए जाने वाली, मैन्युअल KYC गतिविधियों पर हावी हो जाएंगी, फ़िलहाल इन प्रक्रियाओं के लिए महत्वपूर्ण समय और प्रयास की आवश्यकता होती है। फिनटेक, बैंक, क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज और आईटी सुरक्षा सेवा प्रदाता अभी से ही कस्टमर ड्यू डिलिजेंस (CDD) के लिए AI-आधारित KYC समाधान लागू कर रहे हैं।

इसके अलावा, AI और IoT का उपयोग करके वास्तविक समय जोखिम प्रोफाइलिंग को KYC और KYB प्रक्रियाओं में लागू किए जाने की उम्मीद है। IoT बाज़ार अभी भी शुरुआती चरण में है, 25% CAGR के साथ। मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को शामिल करने से डिजिटल KYC और KYB समाधानों के स्टैण्डर्ड बढ़ जाएंगे। डिजिटल ग्राहक व्यक्तित्व बनाकर और वास्तविक समय में वित्तीय व्यवहार पर नज़र रखकर, बैंक, फिनटेक और अन्य व्यवसाय IoT का उपयोग करके लागत को और कम करने और समय बचाने में सक्षम होंगे। धोखाधड़ी गतिविधि को कम करने के लिए, इससे उन व्यवसायों को भी लाभ होगा जो अपने ग्राहकों के जोखिम को आंकने के लिए उनकी प्रोफाइलिंग करते हैं।

KYC और KYB समाधान की दुनिया में एक और इनोवेशन कंपनी के मालिक के प्रकटीकरण के ढांचे में एक नाटकीय बदलाव होगा। अपने अंतिम संशोधनों के बाद, यु.एस. कॉर्पोरेट ट्रांसपेरेंसी एक्ट 2021 में यह स्पष्ट कर दिया है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में शामिल व्यवसायों के लाभकारी मालिक अब गुमनाम नहीं रह सकते हैं। इन कानूनी परिवर्तनों के कारण, सभी ज़रूरी पंजीकरण दस्तावेजों के साथ अब पहचान और स्वामित्व डेटा सत्यापन भी आवश्यक होगा। फिर भी, KYC संबंधित मुद्दों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा अभी भी अज्ञात व्यापार मालिक या UBO (unidentified business owners) हैं। व्यवसाय मालिकों की जानकारी अक्सर अधूरी होती है, जिससे एक कुशल KYC प्रक्रिया को लागू करना मुश्किल हो जाता है।

लक्ज़मबर्ग, ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह और पनामा जैसे कुछ देशों को टैक्स बचाए जाने के लिए एक स्वर्ग के रूप में जाना जाता है, और विधायी सुधारों का पालन करने में उन्हें कुछ समय लग सकता है। KYC प्रोटोकॉल को मजबूत करने और उसका पालन करने के लिए सरकारें जल्द ही लाभकारी स्वामित्व पर जानकारी का आदान-प्रदान करेंगी।

निष्कर्ष

फिनटेक उद्योग तेजी से विकसित हो रहा है, और इसके साथ ही, विभिन्न वित्तीय संस्थाओं की एक-दूसरे और अपने ग्राहकों के साथ संचार सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन की गई प्रौद्योगिकियों में भी समानांतर रूप से काफी सुधार हो रहा है। आधुनिक KYC/KYB समाधान वित्तीय संगठनों के लिए उच्च स्तर की सुरक्षा बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जिससे किसी भी प्रकार के वित्तीय अपराधों को रोकने में मदद मिलती है।

द्वारा

Constantine Belov

एक कड़ी मेहनत करने वाले, लक्ष्य-उन्मुख और सर्वगुण संपन्न व्यक्ति के रूप में, मैं हमेशा अपने हर काम में गुणवत्तापूर्ण काम करने का प्रयास करता हूं। जीवन में चुनौतीपूर्ण कार्यों का सामना करते हुए, मैंने समस्याओं को हल करने के लिए तर्कसंगत और रचनात्मक रूप से सोचने की आदत विकसित की है, जो न केवल मुझे एक व्यक्ति के रूप में, बल्कि एक पेशेवर के रूप में भी विकसित होने में मदद करती है।

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर