इस लेख में

द्वारा

Levan Putkaradze

गहरी वित्तीय पृष्ठभूमि वाला एक अनुभवी कॉपीराइटर और सुलभ, आकर्षक और मूल्यवान सामग्री तैयार करने की क्षमता। मैं इस क्षेत्र में आकर्षक सामग्री तैयार करके फिनटेक और क्रिप्टो की दुनिया के रहस्यों को उजागर करता हूं। मेरा मानना है कि हर जटिल अवधारणा, विचार और कार्यप्रणाली को समझने योग्य और रोमांचक तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है, और हर नए विषय के साथ उस तरीके को खोजना मेरा काम है। मैं लगातार खुद को ऐसी सामग्री तैयार करने के लिए चुनौती देता हूं जो अपने लक्षित दर्शकों के लिए अपरिहार्य मूल्य रखती है, जिससे पाठकों को बिना किसी परेशानी के तेजी से जटिल विचारों को समझने में मदद मिलती है।

और पढ़ेंLinkedin

द्वारा समीक्षित

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

स्टॉप ऑर्डर बनाम लिमिट ऑर्डर: जानने लायक अहम फ़र्क

Reading time

मैन्युअल इंटरैक्शन और फ़िज़िकल ट्रेडर रूम्स वाले ज़माने से ट्रेडिंग की दुनिया अब काफ़ी आगे निकल चुकी है। आज वैश्विक निवेश की सुविधा हर रिटेल ट्रेडर की उँगलियों पर उपलब्ध है, जिसने समूची इंडस्ट्री को ज़्यादा सुलभ और सुविधाजनक बना दिया है। 

ऑटोमेटेड ऑर्डर और ट्रेडिंग मैकेनिज़्म हालिया डिजिटल ट्रेडिंग क्रांति का एक बड़ा हिस्सा बनकर उभरे हैं, जिनकी बदौलत निवेशक अपनी मनचाही कीमतों का चयन कर अपनी पसंद-नापसंद के हिसाब से बाज़ार को नेविगेट कर सकते हैं। इस लेख में हम तीन बेहद ज़रूरी ट्रेडिंग मैकेनिज़्मों के बारे में बात करेंगे – स्टॉप ऑर्डर, लिमिट ऑर्डर, और इन दोनों का एक कॉम्बो – स्टॉप-लिमिट ऑर्डर।

प्रमुख बिंदु

  1. लिमिट ऑर्डरों के तहत ट्रेडरों को मनचाहे सौदों के लिए विशिष्ट कीमतें सेट करने की सहूलियत मिलते है ताकि कीमत के मैच होते ही सौदा अपने आप ही एक्सीक्यूट हो जाए।
  2. एसेट्स के किसी खास मूल्य के पार चले जाने पर उन्हें खरीदने-बेचने की सीमाओं को स्टॉप-ऑर्डर कीमतों के नाम से जाना जाता है।
  3. लिमिट ऑर्डर ट्रेडिंग के सटीक उपकरणों के तौर पर डिज़ाइन किए जाते हैं, जबकि स्टॉप ऑर्डरों का रुझान बाज़ार के प्रति ज़्यादा होता है।
  4. इन टूल्स का एक-साथ इस्तेमाल करना ट्रेडिंग की कई परिस्थितियों में फ़ायदेमंद साबित हो सकता है।

लिमिट ऑर्डर क्या होता है?

लिमिट ऑर्डर ट्रेडिंग के वे सुविधाजनक मैकेनिज़्म होते हैं, जिनकी बदौलत किसी एसेट की प्लैन्ड खरीद-फ़रोख्त के लिए ट्रेडर अपना मनचाहा प्राइस कोट डाल सकते हैं।

खुशकिस्मती से यह मैकेनिज़्म बाज़ार के उचित मूल्य से ऊपर कीमतें निर्धारित करने से बचाता है। उदाहरण के तौर पर, अगर कोई ट्रेडर किसी विशिष्ट ट्रेड-योग्य एसेट के लिए $105 का लिमिट ऑर्डर डालने का फ़ैसला करता है, लेकिन उसका मौजूदा मार्केट प्राइस सिर्फ़ $102 ही है, तो ऑर्डर इसकी इजाज़त ही नहीं देगा। 

how limit orders work

हालांकि यह किसी बुनियादी संभावना जैसी लगती है, एक ही ट्रेडिंग सत्र में कीमतों में भारी बदलाव अनुभव करने वाले बेहद अस्थिर बाजारों के लिए यह फ़ायदेमंद साबित होता है। इसलिए निर्दिष्ट लिमिट प्राइस को हमेशा मौजूदा मार्केट प्राइस के बराबर या उससे कम होना चाहिए। 

इसके अलावा लिमिट ऑर्डर बाज़ार में दिखाई देने वाली किसी मनचाही कीमत की पारदर्शी घोषणाओं जैसे होते हैं। अगर कोई ट्रेडर बिक्री का लिमिट ऑर्डर डालता है, तो भी यही नियम लागू होते हैं – बाज़ार की मौजूदा कीमत से नीचे का बिक्री वाला ऑर्डर नहीं डाला जा सकता है। 

लिमिट प्राइस बनाम मार्केट प्राइस

लिमिट ऑर्डर दो अलग-अलग प्रकार के होते हैं। पहली प्रकार होती है निर्दिष्ट कीमत पर ठोस प्रतिबंध के तौर पर काम करने वाला लिमिट प्राइस। इसका मतलब यह होता है कि सौदा सिर्फ़ तभी एक्सीक्यूट होगा, जब ट्रेडर खुले बाज़ार से मैच होने वाले सटीक प्राइस की ऑर्डर लिमिट डाल दे। दूसरी तरफ़, मार्केट ऑर्डर के तहत ट्रेडर कीमत को लेकर कम सीमित प्रतिबंध लगा सकते हैं। 

Limit Price vs. Market Price Differences

मनचाहे कोट का यहाँ भी चयन किया जाता है, लेकिन कीमत का एकदम मैच हो जाना अनिवार्य नहीं होता। बल्कि बाज़ार में अगर चयनित एसेट की माँग में उफान आ रहा हो, तो इसके करीबी मैच हो जाने से भी बात बन जाती है। 

माँग में आने वाली इस वृद्धि को समझकर ऑर्डर मैचिंग सिस्टम खरीदारी को एक्सीक्यूट कर देगा। ज़ाहिर-सी बात है कि अस्थिर बाज़ारों में यह तरीका जोखिमपूर्ण होता है क्योकि माँग में अचानक बढ़ोतरी आ जाने से आगे चलकर निवेश को नुकसान भी झेलना पड़ सकता है।

स्टॉप ऑर्डर को समझना

विशिष्ट हालातों में स्टॉप ऑर्डर एक बढ़िया विकल्प होते हैं। लिमिट ऑर्डरों की ही तरह स्टॉप ऑर्डरों को भी किसी कस्टम कीमत को ध्यान में रखकर सेट किया जा सकता है। 

लेकिन लिमिट ऑर्डरों के विपरीत इन ऑर्डरों को एक विशिष्ट कीमत तक एक्सीक्यूट नहीं किया जाता है। दूसरी तरफ़, स्टॉप ऑर्डर मनचाही कीमत तक पहुँचने या उसके पार जाने पर ही एक्टिवेट होते हैं। 

इसलिए स्टॉप ऑर्डरों को एसेट्स को किसी विशिष्ट सीमा के ऊपर खरीदने के लिए ही बनाया जाता है, जिसके चलते निवेशक फलते-फूलते प्रकार वाले एसेट्स में निवेश की अपनी रणनीतियों को ऑटोमेट कर पाते हैं।

एसेट्स बेचने पर भी यही बात लागू होती है, क्योंकि कीमत के एक तय सीमा से नीचे चले जाने पर ही बाज़ार में सौदा एक्टिवेट होगा। दोनों ही मामले जोखिम प्रबंधन के साथ-साथ मौकापरस्त निवेश के लिए बढ़िया होते हैं। 

स्टॉप ऑर्डर का इस्तेमाल करते समय प्राइस गैप्स पर विचार करना अहम होता है क्योंकि वे आपकी रणनीतियों पर गहरा प्रभाव डाल सकते हैं। एक नकारात्मक प्राइस गैप का मतलब एसेट की कीमत में एक अप्रत्याशित गिरावट होती है, और बेचने वाले किसी स्टॉप ऑर्डर के चलते वांछित बिक्री वाली कीमत और तथ्यात्मक कीमत के बीच में अच्छा-खासा फ़ासला बन सकता है।

स्टॉप-लिमिट ऑर्डर आखिर कैसे काम करते हैं

हालांकि उपर्युक्त दोनों ऑर्डर एक-दूसरे के बढ़िया विकल्प होते हैं, इन दोनों मैकेनिज़्मों को जोड़ने का भी एक रास्ता होता है। उपयुक्त रूप से स्टॉप-लिमिट ऑर्डर के नाम से जाने जाने वाले इस मैकेनिज़्म के तहत ट्रेडर कारगर ढंग से खरीदारी या बिक्री की अपनी मनचाही कीमत की ऊपरी और निचली सीमा सेट कर सकते हैं। ऐसा करके ट्रेडर एसेट्स की खरीद-फ़रोख्त की स्वीकार्य रेंज बना सकते हैं। 

How Stop Limit Orders Function

उदाहरण के तौर पर, अगर कोई ट्रेडर किसी खास एसेट को $100 और $105 के अंतराल पर खरीदना चाहता है, तो उसे बस $105 का स्टॉप प्राइस और $100 का लिमिट प्राइस सेट कर देना चाहिए। इस तरह स्टॉक की कीमत $105 से नीचे जाते ही सौदे एक्टिवेट हो जाएगा, जबकि $100 की मूल्यांकन सीमा से नीचे जाते ही सौदा रद्द हो जाएगा। ट्रेलिंग स्टॉप-लिमिट ऑर्डर यह सुनिश्चित करता है कि संबंधित एसेट को निर्दिष्ट रेंज के ऊपर या नीचे नहीं खरीदा जाएगा।

नतीजतन ट्रेडरों को मूल्यांकन की एक अच्छी-खासी विंडो के साथ-साथ किसी एसेट को प्राप्त करने की बेहतर संभावना भी होगी। आखिरकार एक सटीक कीमत की तुलना में कीमतों की रेंज के मैच हो जाने की अधिक संभावना जो होती है। स्टॉप-लिमिट ऑर्डर ऐसे लाजवाब मैकेनिज़्म होते हैं, जिनके दोनों ही हाथ घी में होते हैं। लेकिन इस उपकरण में महारत हासिल कर ज़्यादा से ज़्यादा मुनाफ़ा कमाने के लिए काफ़ी मेहनत भी लगती है।

लिवरेज किए गए ट्रेडिंग सिनेरियो में स्टॉप और लिमिट ऑर्डर काफ़ी लोकप्रिय होते हैं, क्योंकि इनकी बदौलत निवेशक एक-साथ कई पोज़ीशनों पर अधिक नियंत्रण प्राप्त कर पाते हैं।

तेज़तर्रार फ़ैक्ट

हर ऑर्डर के लिए कौन-कौनसे हालात सबसे बेहतरीन होते हैं?

उपर्युक्त चर्चा के अनुसार स्टॉप और लिमिट, दोनों ही ऑर्डरों को खुले बाज़ार में सौदों के नतीजों पर नियंत्रण प्राप्त करने के इरादे से बनाया गया है। इन दो प्रणालियों में सबसे अहम फ़र्क यह है कि जहाँ लिमिट ऑर्डर सटीक होते हैं, वहीँ स्टॉप ऑर्डरों को एक्सीक्यूट करने के लिए मौजूदा मार्केट प्राइस एंकर की ज़रूरत होती है। इसलिए हर तरह के ऑर्डर का कारगर इस्तेमाल बाज़ार के खास हालातों पर निर्भर करता है। 

इसलिए लिमिट ऑर्डरों का उद्देश्य बाज़ार के खास लक्ष्यों की पूर्ति होता है। उनका सबसे बेहतरीन इस्तेमाल तब होता है, जब ट्रेडर की कीमतों के सटीक कोट्स पर निर्भर करने वाली कोई कस्टम रणनीति होती है। इसलिए लिमिट ऑर्डर लो मार्जिन और उच्च लिक्विडिटी वाले बाज़ारों में खास तौर से कारगर साबित होते हैं।

When to Use Stop and Limit Orders

स्टॉप ऑर्डरों का दोहरा उद्देश्य

इसके विपरीत, स्टॉप ऑर्डर जोखिम को कम करने वाली रणनीति के तौर पर ज़्यादा कारगर साबित होते हैं। मान लीजिए किसी निवेशक ने कोई एसेट खरीदा है, जिसकी आगे चलकर अवमूल्यन की उम्मीद है। इस अनचाहे परिणाम पर काबू पाने के लिए निवेश कीमत X पर स्टॉप ऑर्डर ट्रेड प्राइस सेट कर सकता है। जब भी एसेट की कीमत X से नीचे जाएगी, सेल का अपने आप ही आगाज़ हो जाएगा व नुकसान में कटौती आ जाएगी।

दूसरी तरफ़ स्टॉप ऑर्डर किसी ट्रिगरिंग टूल के तौर पर भी काम कर सकते हैं। यह एक जाना-माना तथ्य है कि किसी विशिष्ट मार्केट प्राइस पर पहुँचकर किसी एसेट की कीमत में वृद्धि आने की अपेक्षा होती है। 

यानी कि कोई स्टॉप ऑर्डर इस बात का पता स्वतः ही लगाकर एसेट को कम दाम या बेहतर मूल्यांकन पर खरीद सकता है। यह रणनीति उन ट्रेडरों के लिए फ़ायदेमंद होती है, जो अपने-अपने पोर्टफ़ोलियो के दरमियाँ अलग-अलग तरह के एसेट्स से डील करते हैं। 

जहाँ तक बाज़ारों की बात है, स्टॉप और लिमिट ऑर्डर विदेशी मुद्रा, क्रिप्टो, शेयर बाज़ार और यहाँ तक कि कमोडिटी में भी मददगार होते हैं, क्योंकि हर सेक्टर में विशिष्ट अवधियों के दौरान कीमतों में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं। इसलिए स्टॉप लिमिट एक्टिवेशन प्राइस जैसे कोई मैकेनिज़्म बाज़ार की बदलती परिस्थितियों के साथ कदम से कदम बढ़ाने में मदद करते हैं। 

अंतिम विचार

ट्रेडिंग की दुनिया में स्टॉप ऑर्डर बनाम लिमिट ऑर्डर एक दिलचस्प बहस है। किसी एक तरीके को दूसरे से बेहतर करार देना थोड़ा मुश्किल होगा क्योंकि दोनों ही को अलग-अलग स्थितियों में इस्तेमाल किया जाता है। मेहनती निवेशक बाज़ार में आने वाले बदलावों के आधार पर अक्सर स्टॉप और लिमिट ऑर्डरों का मिलाकर या अदला-बदली कर उनका इस्तेमाल करते हैं। 

इसलिए अपने मुनाफ़े को मैक्सिमाइज़ कर अपने पोर्टफ़ोलियो के ग्रोथ मेट्रिक्स में बढ़ोतरी लाने के लिए यह जानना अहम होता है कि इन मैकेनिज़्मों को कब इस्तेमाल करना चाहिए। लिमिट और स्टॉप ऑर्डर दोनों ही पक्षों को कवर कर सकते हैं – ग्रोथ को प्रोत्साहित कर घाटे को न्यूनतम स्तर पर रखना। लेकिन हर ट्रेडिंग मैकेनिज़्म की ही तरह यह उपकरण भी अनुभवी पेशेवरों के हाथों में ही वे सबसे कारगर साबित होते हैं। 

द्वारा

Levan Putkaradze

गहरी वित्तीय पृष्ठभूमि वाला एक अनुभवी कॉपीराइटर और सुलभ, आकर्षक और मूल्यवान सामग्री तैयार करने की क्षमता। मैं इस क्षेत्र में आकर्षक सामग्री तैयार करके फिनटेक और क्रिप्टो की दुनिया के रहस्यों को उजागर करता हूं। मेरा मानना है कि हर जटिल अवधारणा, विचार और कार्यप्रणाली को समझने योग्य और रोमांचक तरीके से प्रस्तुत किया जा सकता है, और हर नए विषय के साथ उस तरीके को खोजना मेरा काम है। मैं लगातार खुद को ऐसी सामग्री तैयार करने के लिए चुनौती देता हूं जो अपने लक्षित दर्शकों के लिए अपरिहार्य मूल्य रखती है, जिससे पाठकों को बिना किसी परेशानी के तेजी से जटिल विचारों को समझने में मदद मिलती है।

और पढ़ेंLinkedin

द्वारा समीक्षित

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर