इस लेख में

द्वारा

Anna Churakova

एक ऐसा व्यक्ति होने के नाते जो हमेशा दुनिया के बारे में कुछ नया सीखने के लिए उत्सुक रहता है और विदेशी भाषाओं को सीखने का शौकीन है, टेक्नोलॉजी अनुवादक, फिनटेक उत्पादों के लिए टेक्नोलॉजी लेखक और कॉपीराइटर के रूप में काम करते हुए मुझे विभिन्न क्षेत्रों में पाठ के साथ बहुत अनुभव हुआ।  

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

जोखिम समता रणनीति – निवेशक की सुरक्षित पसंद

आर्टिकल्स

Reading time

वित्तीय निवेश उद्योग में पोर्टफोलियो प्रबंधन प्रक्रिया चर्चा का विषय बानी हुई है। न्यूनतम जोखिम के साथ उच्च रिटर्न देने के लिए पोर्टफोलियो को अनुकूलित करने के लिए कई तरीके और दृष्टिकोण मौजूद हैं। ऐसा ही एक दृष्टिकोण जोखिम समता रणनीति है। इस लेख में, हम चर्चा करेंगे कि जोखिम समता पोर्टफोलियो अनुकूलन क्या है, जोखिम समता पोर्टफोलियो कैसे बनाया जाए, और यह भी जानेंगे कि रणनीति के लाभ और सीमाएं क्या हैं।

मुख्य बातें

  1. जोखिम समता रणनीति एक ऐसी रणनीति है जिसका लक्ष्य किसी पोर्टफोलियो में जोखिमों का समान वितरण करना होता है।
  2. इष्टतम जोखिम समता पोर्टफोलियो की अपेक्षित रिटर्न आम तौर पर निवेशक की आवश्यक रिटर्न से कम होती है।
  3. जोखिम समता निवेश पोर्टफोलियो बनाने के दो मुख्य दृष्टिकोण हैं, – एक स्थायी और सभी मौसम के अनुकूल पोर्टफोलियो बनाना।
  4. जोखिम समता पोर्टफोलियो का निर्माण लीवरेज्ड इटीएफ के साथ किया जा सकता है।

जोखिम समता क्या है?

जोखिम समता निवेश की एक ऐसी विधि है जिसका उद्देश्य सभी विभिन्न प्रकार की परिसंपत्तियों के बीच पोर्टफोलियो में जोखिम की मात्रा को समान रूप से वितरित करना होता है। इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि कोई भी संपत्ति बहुत जोखिम भरी न हो जिससे पोर्टफोलियो के पूरे मूल्य में कमी आ जाए। अगर ठीक से निगरानी की जाए तो यह रणनीति लगातार मुनाफा कमा सकती है।

जोखिम समता पोर्टफोलियो में विभिन्न प्रकार की संपत्तियां शामिल हो सकती हैं, जैसे स्टॉक और इक्विटी, कच्चा माल (कमोडिटी), बांड या असंबंधित रिटर्न वाली अन्य संपत्तियां। महत्वपूर्ण बात यह है कि उन संपत्तियों को इकट्ठा किया जाए जो एक ही स्थिति में अलग-अलग तरह से काम करती हैं, जिनमें से कुछ का मूल्य बढ़ता हो और कुछ का नीचे गिरता हो।

जोखिम समता एक प्रगतिशील पोर्टफोलियो तकनीक है जिसका उपयोग अक्सर हेज फंड द्वारा किया जाता है।

जोखिम समता रणनीतियों का उपयोग करके, पोर्टफोलियो प्रबंधक निवेशक के उद्देश्यों और प्राथमिकताओं के अनुसार इष्टतम विविधीकरण प्राप्त करने के लिए पोर्टफोलियो में परिसंपत्ति वर्गों के पूंजी योगदान का सटीक अनुपात निर्धारित कर सकते हैं।

जोखिम के एक विशिष्ट स्तर पर बेहतर रिटर्न देने के लिए जोखिम समता के लिए दो पहलू बेहद आवश्यक हैं:

  • कम जोखिम वाली परिसंपत्ति (बॉन्ड) का रिटर्न शामिल जोखिम के स्तर के अनुसार समायोजित किया जाना चाहिए और इसमें शामिल जोखिम के अनुसार समायोजित उच्च जोखिम वाली परिसंपत्ति (स्टॉक) का रिटर्न अधिक होना चाहिए। इस मामले में, कम जोखिम वाला विविध पोर्टफोलियो, उतने ही निवेश वाली उच्च जोखिम परिसंपत्ति की तुलना में अधिक रिटर्न अर्जित कर सकता है।
  • लेवरेज लागत (उधार ली गई धनराशि) कम होनी चाहिए ताकि लेवरेज आवंटन से अपेक्षित लाभ आपके नियमित आवंटन से लाभ से अधिक हो।

जोखिम समता रणनीति का लक्ष्य विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों के लिए समान जोखिम आवंटित करना है। इसके परिणामस्वरूप बांडों को सबसे बड़ा आवंटन प्राप्त होता है क्योंकि वे दशकों से स्टॉक की तुलना में कम अस्थिरता और बेहतर जोखिम-समायोजित रिटर्न प्रदर्शित करते चले आ रहे हैं।

जोखिम समता आधुनिक पोर्टफोलियो सिद्धांत (MPT) या मीन-वेरिएंस आप्टिमिज़ेशन से मिलती जुलती है। एमपीटी रिटर्न और जोखिमों के आधार पर मीन-वेरिएंस आप्टिमिज़ेशन मिश्रण चाहता है, जबकि जोखिम समता आपकी रिटर्न पर ध्यान केंद्रित किए बिना जोखिम को बराबर करने के लिए परिसंपत्तियों को वितरित करती है।

मत्वपूर्ण तथ्य

जोखिम समता पोर्टफोलियो बनाना

जोखिम समता रणनीति विभिन्न परिसंपत्ति प्रकारों की कीमतों के बीच नकारात्मक सहसंबंध पर आधारित है। जब एक की कीमत नीचे जाती है, तो दूसरे को उसकी भरपाई के लिए ऊपर जाना पड़ता है। अगर ऐसा नहीं होता है, तो रणनीति अप्रभावी होती है।

जोखिम समता पोर्टफोलियो में, एक निवेशक यह जांचता है कि प्रत्येक परिसंपत्ति कितनी जोखिम भरी है और एक ऐसा पोर्टफोलियो बनाता है जो परिसंपत्तियों के जोखिमों को इस बात पर विचार किए बिना बराबर करता है कि वे कितना पैसा कमा सकते हैं। इष्टतम पोर्टफोलियो की अपेक्षित रिटर्न आम तौर पर निवेशकों के आवश्यक रिटर्न से कम होती है। 

जोखिम समता पोर्टफोलियो बनाने के लिए, मैनेजर आमतौर पर परिसंपत्तियों के मिश्रण का उपयोग करते हैं क्योंकि रणनीति लेवरेज, वैकल्पिक विविधीकरण और पोर्टफोलियो और फंडों में शॉर्ट सेलिंग की अनुमति देती है।

जोखिम समता के घटक

जोखिम समता पोर्टफोलियो तीन प्रमुख कारकों के आधार पर बनाया जाता है:

  • परिसंपत्ति वर्ग – एक जोखिम समता पोर्टफोलियो की प्रमुख संपत्तियांकमोडिटी, स्टॉक, बांड और रियल एस्टेट या हेज फंड जैसे अन्य विकल्प होते हैं। प्रत्येक प्रकार की परिसंपत्ति में जोखिम और संभावित रिटर्न की अपनी डिग्री होती है। जब इन सभी निवेशों को जोड़ दिया जाता है, तो वे प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियों के कुल जोखिम को परिभाषित करते हैं। प्रत्येक प्रकार की परिसंपत्ति का चयन इस बात से निर्धारित होता है कि वह पोर्टफोलियो के जोखिम में कितना इजाफा करती है, इस बात से नहीं कि वे उसके बाजार मूल्य में कितना इजाफा करती है।
  • जोखिम कारक – जोखिम कारक उन तत्वों को संदर्भित करते हैं जो पोर्टफोलियो के भीतर जोखिम के स्तर में योगदान डालते हैं। जोखिम समता पोर्टफोलियो में, जोखिम के प्राथमिक स्रोतों में स्टॉक निवेश से संभावित नुकसान, ब्याज दरों में उतार-चढ़ाव, मुद्रास्फीति का दबाव और उधारकर्ता द्वारा डिफॉल्ट करने या क्रेडिट डाउनग्रेड का अनुभव करने की संभावना शामिल है।
  • विविधीकरण – जोखिम समता पोर्टफोलियो विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में निवेश करके क्षेत्रीय आर्थिक झटकों के प्रभाव को कम करने का प्रयास करते हैं। इस तरह, वे जोखिम को हिस्सों में फैलाते हैं और इस बात की संभावना को कम कर देते हैं कि किसी विशेष देश में आर्थिक झटका आपके पोर्टफोलियो पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगा। विभिन्न उद्योगों में निवेश को फैलाने से भी जोखिम कम हो सकता है और पोर्टफोलियो में परिसंपत्तियों की विविधता में सुधार हो सकता है।

जोखिम समता पोर्टफोलियो के उदाहरण

चूंकि प्रत्येक निवेशक की स्वीकार्य जोखिम और रिटर्न को लेकर अपनी सोच होती है, इसलिए कोई एक ही विचार या रणनीति सभी के लिए समाधान नहीं है। इसलिए, पहली चीज़ है आपके जोखिम प्रोफ़ाइल का निर्धारण करना। पोर्टफोलियो को न केवल परिसंपत्ति वर्गों द्वारा बल्कि भूगोल द्वारा भी अलग होना चाहिए।

पहले, एक लोकप्रिय निवेश रणनीति 60/40 का व्यापक रूप से उपयोग किया गया। सामान्य तौर पर, 60/40 एक निवेश रणनीति है जो निर्दिष्ट अनुपात में पोर्टफोलियो में लाभदायक और सुरक्षात्मक संपत्तियों को शामिल करती है: 60% संपत्तियां जो बढ़े हुए जोखिमों के साथ मुख्य लाभप्रदता प्रदान करती हैं (इनमें स्टॉक, कमोडिटी बाजार संपत्ति, मुद्राएं, ऑप्शंस और फ्यूचर शामिल हैं), और 40% सुरक्षात्मक परिसंपत्तियों का हिस्सा होता है, जो संकट की स्थिति में अस्थिरता, समग्र जोखिम और पोर्टफोलियो गिरावट को कम करता है (इनमें बांड, बैंक डिपॉज़िट, कुछ कीमती धातुएं आदि शामिल हैं)।

हालाँकि, 2008 के आर्थिक संकट ने इस रणनीति की अस्थिरता को दर्शाया क्योंकि शेयरों और उनकी अस्थिरता के बीच सहसंबंध काफी बढ़ गया था, और संस्थागत निवेशकों के पोर्टफोलियो में सभी जोखिमों का लगभग 90% हिस्सा शेयरों का ही था। ऐसे में ही जोखिम समता रणनीति मददगार हो सकती है।

एक अमेरिकी वित्तीय सलाहकार, हैरी ब्राउन ने जोखिम समता रणनीति का विचार सुझाया था। उन्होंने एक स्थायी पोर्टफोलियो की अवधारणा का आविष्कार किया।

पोर्टफोलियो के पीछे मुख्य विचार यह है कि इसमें एक ओर, परिसंपत्तियों में दीर्घकालिक वृद्धि की प्रवृत्ति होती है; वहीँ दूसरी ओर, वे लगभग हमेशा विपरीत दिशाओं में चलते हैं। यह पोर्टफोलियो उस हिस्से पर रिटर्न को रोकता है, जो बढ़ रहा होता है लेकिन इसी दौरान उस हिस्से पर नुकसान को भी रोकता है जो नीचे जा रहा होता है। 

स्थायी पोर्टफोलियो परिसंपत्ति आवंटन संरचना इस प्रकार है:

  • 25% अमेरिकी स्टॉक – स्टॉक समृद्धि के समय में ठोस रिटर्न प्रदान करने के लिए होते हैं। पोर्टफोलियो के इस हिस्से के लिए, ब्राउन S&amp 500 इंडेक्स फंड का सुझाव देते हैं, उदाहरण के लिए, वैनगार्ड 500 इंडेक्स फंड एडमिरल शेयर।
  • 25% दीर्घकालिक अमेरिकी ट्रेजरी बांड – माना जाता है कि बांड समृद्धि के समय और कीमतें कम होने की स्थिति में लाभ लाएंगे, लेकिन अन्य आर्थिक चक्रों के दौरान वे खराब प्रदर्शन करेंगे।
  • 25% अल्पकालिक अमेरिकी ट्रेजरी बांड – पोर्टफोलियो के इस हिस्से का उद्देश्य तंग मुद्रा बाजार और मंदी की अवधि के खिलाफ बचाव करना है।
  • 25% सोना – ये कीमती धातुएँ मुद्रास्फीति की अवधि के दौरान फंड्स को रक्षा प्रदान करती हैं।

जोखिम समता पोर्टफोलियो का एक और उदाहरण तथाकथित ऑल-वेदर पोर्टफोलियो है, जिसका सुझाव ब्रिजवाटर के संस्थापक रे डेलियो ने दिया है।

डालियो ने चार मुख्य कारकों की पहचान की जो संपत्ति के मूल्य को प्रभावित कर सकते हैं, यानी चार मैक्रोइकॉनॉमिक “सीज़न”:

  • मुद्रा स्फ़ीति।
  • अपस्फीति।
  • आर्थिक विकास।
  • आर्थिक गिरावट।

इसके बाद डेलियो ने ऐसे परिसंपत्ति वर्गों का चयन किया, जिन्होंने इनमें से प्रत्येक अवधि में अच्छा प्रदर्शन किया, जिसके परिणामस्वरूप एक लचीला पोर्टफोलियो तैयार हुआ, जिसमें किसी भी आर्थिक परिवर्तन के दौरान परिसंपत्तियों का कुल मूल्य अपरिवर्तित रहता है।

ऑल-वेदर पोर्टफोलियो में परिसंपत्ति आवंटन इस प्रकार है:

  • 30% अमेरिकी स्टॉक – यह पोर्टफोलियो का सबसे लाभदायक हिस्सा है, खासकर यह एक मजबूत अर्थव्यवस्था में मौजूद। हालाँकि, यह स्टॉक सबसे अधिक अस्थिर संपत्ति भी है।
  • 40% दीर्घकालिक ट्रेजरी बांड – ये विकसित और उभरते दोनों बाजारों के बांड हैं। विकसित बाजार की संपत्ति जोखिम-मुक्त संपत्ति हैं लेकिन अपस्फीति के दौरान शून्य या यहां तक ​​कि नकारात्मक रिटर्न भी दे सकती हैं। वहीं दूसरी तरफ उभरते बाजार उच्च रिटर्न दे सकते हैं लेकिन मंदी के दौरान ये मूल्य खो सकते हैं। हालाँकि, ट्रेजरी बांड पोर्टफोलियो को मुद्रास्फीति से बचा सकते हैं।
  • 15% इंटरमीडिएट-टर्म ट्रेजरी बांड – ये बांड एक बढ़ा हुआ आय स्तर प्रदान कर सकते हैं, खासकर आर्थिक समृद्धि की अवधि के दौरान, लेकिन संकट के दौरान, ये एक जोखिम भरी संपत्ति भी बन सकते हैं।
  • 7.5% कमोडिटी – आर्थिक समृद्धि के दौरान इस परिसंपत्ति वर्ग की मांग अत्यधिक हो जाती है। इनके कोट्स मुद्रास्फीति के साथ बढ़ते हैं, इसलिए कमोडिटी आपकी कैपिटल को डेप्रिशिएशन से बचाने की अनुमति प्रदान करते हैं।
  • 7.5% सोना – यह एक क्लासिक रक्षात्मक उपकरण है जिसे किसी भी विविध पोर्टफोलियो में शामिल किया जाना चाहिए। एक नियम के रूप में, सोने की कीमत संकट के दौरान बढ़ती है, इसके साथ ही यह बढ़ती मुद्रास्फीति के साथ भी बढ़ती है।

जब स्टॉक की लागत बढ़ रही हो तो पोर्टफोलियो के स्टॉक हिस्से को बुल मार्केट में लाभ प्रदान करना चाहिए। इक्विटी और बांड पर आमतौर पर मुद्रास्फीति का असर नहीं होता इसलिए इसलिए ये गिरती कीमतों के दौरान अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं।

ऑल-वेदर रणनीति के रिटर्न को बढ़ाने के लिए लीवरेज्ड ईटीएफ का उपयोग करके ऑल-वेदर पोर्टफोलियो बनाया जा सकता है।

लेवरेज्ड ईटीएफ नियमित ईटीएफ के समान फंड ही हैं, लेकिन वे दोगुने या तीन गुना लीवरेज का उपयोग करते हैं और ऐसे रिटर्न तलाशने के लिए शॉर्ट पोजीशन खोलते हैं, जो उनके द्वारा ट्रैक किए गए इंडेक्स से दोगुना या तिगुना हो। हालाँकि, यह दृष्टिकोण बहुत जोखिम भरा है क्योंकि आपको यह ध्यान में रखना होगा कि यदि ट्रेडिंग सत्र के दौरान अंतर्निहित सूचकांक 1% खो देता है, तो दोहरे लेवरेज के साथ जोखिम समता वाला ईटीएफ लगभग 2% का नुकसान दिखाएगा।

एक बढ़ रही अर्थव्यवस्था में, स्टॉक और कमोडिटी के साथ स्थायी और सभी मौसम वाले दोनों पोर्टफोलियो बढ़ेंगे, जबकि वित्तीय या आर्थिक उथल-पुथल की अवधि के दौरान, सोने और बांड की कीमतें बढ़ेंगी। आप एक पोर्टफोलियो और निवेश विश्लेषण प्लेटफार्म का उपयोग करके अपने पोर्टफोलियो के जोखिम और संभावित रिटर्न की गणना कर सकते हैं।

लाभ और कमियां

जोखिम समता दृष्टिकोण किसी भी निवेशक के लिए एक आदर्श रणनीति प्रतीत हो सकती है। हालाँकि, किसी भी अन्य निवेश रणनीति या पद्धति की तरह, जोखिम समता दृष्टिकोण के भी लाभ और कमियां हैं। आइए उनमें से कुछ को करीब से देखें।

लाभ

  • कम अस्थिरता – जोखिम समता दृष्टिकोण पोर्टफोलियो की अस्थिरता को कम करने का प्रयास करता है। ऐसा विभिन्न परिसंपत्ति वर्गों में जोखिम को संतुलित करके प्राप्त किया जाता है।
  • जोखिम आवंटन पर ध्यान – फंड आवंटन के बजाय जोखिम आवंटन पर ध्यान केंद्रित करके, यह रणनीति सिर्फ एक परिसंपत्ति वर्ग पर निर्भरता कम करती है, जिसके परिणामस्वरूप अधिक संतुलित और मजबूत पोर्टफोलियो बनता है।
  • विविधीकरण – जोखिम समता पोर्टफोलियो में विभिन्न प्रकार की संपत्तियां शामिल होती हैं, जिससे शेयर बाजार का प्रदर्शन कम होने पर भी अच्छे रिटर्न की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा, ऐसे पोर्टफोलियो में आर्थिक मंदी के दौरान मूल्य खोने की संभावना कम होती है, क्योंकि मौजूदा विविध पूल रिटर्न को कम कर देता है।
  • लचीलापन – जोखिम समता रणनीतियाँ निवेशकों के लिए अपने परिसंपत्ति वितरण को बदलना और बाजार की गतिविधियों के अनुसार अपने पोर्टफोलियो को समायोजित करना आसान बना देती है।
  • बाज़ार बदलाव के लिए अनुकूलनशीलता – जोखिम समता पोर्टफोलियो को विभिन्न बाजार स्थितियों और आर्थिक चक्रों के लिए अनुकूलित किया जा सकता है, जो निवेशकों को विभिन्न वित्तीय वातावरणों में प्रभावी ढंग से काम करने में मदद प्रदान कर सकता है।
  • लागत-प्रभावशीलता – जोखिम समता पोर्टफोलियो को अन्य प्रकार के पोर्टफोलियो की तुलना में कम प्रबंधन की आवश्यकता होती है, और इसलिए, वे निष्क्रिय रिटर्न अर्जित कर सकते हैं। इसके अलावा, ऐसे पोर्टफोलियो की शुल्क संरचना कम होती है, जो उन्हें उन लोगों के लिए एक सुरक्षित विकल्प बनाती है जो भारी निवेश प्रबंधन शुल्क वहन नहीं कर सकते।

कमियां

  • जटिलता – जोखिम समता रणनीतियों को लागू करने के लिए उन्नत विश्लेषणात्मक उपकरणों और जटिल अनुकूलन एल्गोरिदम के गहन ज्ञान की आवश्यकता होती है, यह मुश्किल हो सकता है, खासकर यदि आप एक शुरुआती निवेशक हैं।
  • ऐतिहासिक डेटा पर निर्भरता – जोखिम मूल्यांकन में रणनीति काफी हद तक ऐतिहासिक डेटा पर निर्भर करती है, जो भविष्य के जोखिमों और बाजार व्यवहार की सटीक भविष्यवाणी में रुकावट पैदा कर सकता है।
  • लेवरेज – महत्वपूर्ण रिटर्न उत्पन्न करने के लिए आपको अधिक महत्वपूर्ण लेवरेज राशि की आवश्यकता हो सकती है। लेवरेज का उपयोग करने से जोखिम बढ़ सकता है और बाजार में मंदी के दौरान काफी नुकसान भी हो सकता है।

निष्कर्ष

जोखिम समता रणनीति एक जटिल दृष्टिकोण है जो आपको एक लचीला पोर्टफोलियो बनाने में मदद कर सकती है जो लगभग किसी भी आर्थिक उथल-पुथल से आपको बचा सकती है और अच्छा और स्थिर रिटर्न दे सकती है। हालाँकि, इस रणनीति में कमियां भी हैं और इसके लिए निवेश और वित्तीय जागरूकता में बहुत अधिक अनुभव और ज्ञान की आवश्यकता होती है। इस दृष्टिकोण का सही और बुद्धिमानी से उपयोग करने से आपको महत्वपूर्ण लाभ मिल सकते हैं और एक तरह की निष्क्रिय आय उप्तन्न हो सकती है, हालाँकि जोखिम समता के पहलुओं में अज्ञानता से काफी नुकसान हो सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

हैरारिकल रिस्क पैरिटी/पदानुक्रमित जोखिम समता क्या है?

यह विधि पोर्टफोलियो में परिसंपत्ति आवंटन प्रक्रिया के लिए एक पदानुक्रमित दृष्टिकोण का उपयोग करती है। पदानुक्रमित जोखिम समता का मतलब संपत्ति के विभिन्न वर्गों या पोर्टफोलियो जोखिम कारकों के आधार पर पोर्टफोलियो को विभिन्न स्तरों या टियर्स में बांटना होता है।

लीवरेज्ड ईटीएफ कैसे काम करते हैं?

लीवरेज्ड ईटीएफ स्टॉक एक्सचेंज पर कारोबार की जाने वाली सिक्योरिटीज हैं जो आपको किसी अन्य सिक्योरिटी के इंट्रा-ट्रेडिंग मूवमेंट को 2 या 3 गुना तक दोहराने की अनुमति देती हैं, जिससे संभावित नुकसान और मुनाफा दोनों बढ़ जाते हैं।

ब्राउन और डैलियो के पोर्टफोलियो के बीच क्या अंतर हैं?

परमानेंट/स्थायी पोर्टफोलियो विभिन्न आर्थिक स्थितियों में सरलता और संतुलन का लक्ष्य रखते हुए संपत्ति को स्टॉक, बॉन्ड, सोना और नकदी के बीच समान रूप से विभाजित करता है। इसके विपरीत,ऑल-वेदर पोर्टफोलियो अधिक जटिल, जोखिम-समानता अनुकूलित परिसंपत्ति आवंटन का उपयोग करता है जिसमें स्टॉक, विभिन्न प्रकार के बांड और कभी-कभी कमोडिटी शामिल होते हैं, जिसका लक्ष्य सभी आर्थिक “सीज़न” में अच्छा प्रदर्शन करना होता है।

द्वारा

Anna Churakova

एक ऐसा व्यक्ति होने के नाते जो हमेशा दुनिया के बारे में कुछ नया सीखने के लिए उत्सुक रहता है और विदेशी भाषाओं को सीखने का शौकीन है, टेक्नोलॉजी अनुवादक, फिनटेक उत्पादों के लिए टेक्नोलॉजी लेखक और कॉपीराइटर के रूप में काम करते हुए मुझे विभिन्न क्षेत्रों में पाठ के साथ बहुत अनुभव हुआ।  

और पढ़ेंLinkedin

शुद्धिकारक

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर