इस लेख में

द्वारा

Alexander Shishkanov

अलेक्जेंडर शिशकानोव के पास क्रिप्टो और फिनटेक उद्योग में कई वर्षों का अनुभव है और ब्लॉकचेन तकनीक की खोज करने का शौक है। अलेक्जेंडर क्रिप्टोकरेंसी, फिनटेक समाधान, ट्रेडिंग रणनीतियों, ब्लॉकचेन विकास और बहुत कुछ जैसे विषयों पर लिखते हैं। उनका मिशन व्यक्तियों को इस बारे में शिक्षित करना है कि इस नई तकनीक का उपयोग सुरक्षित, कुशल और पारदर्शी वित्तीय प्रणाली बनाने के लिए कैसे किया जा सकता है।

और पढ़ेंLinkedin

द्वारा समीक्षित

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर

2024 में क्रिप्टो ब्रोकर कैसे बनें: एक विस्तृत गाइड

आर्टिकल्स

Reading time

खासकर क्रिप्टो बाज़ार से आई हालिया खबरों को मद्देनज़र रखते हुए 2024 में क्रिप्टो मुद्रा जगत में प्रवेश एक लुभावना और अनूठा मौका होता है। जनवरी 2024 में SEC द्वारा स्पॉट Bitcoin ETF को मिली मंज़ूरी से भारी रूप से प्रभावित Bitcoin के मूल्य में आई भारी बढ़ोतरी ने सेक्टर में रिटेल दिलचस्पी को अपने चरम पर पहुँचा दिया।

साथ ही, BTC माइनिंग के इनाम को कम कर देने वाला, हर चार वर्ष में आयोजित “Bitcoin हाल्विंग” इवेंट, जिसका हमें एक लंबे अरसे से इंतज़ार था, 20 अप्रैल 2024 को आयोजित किया गया था। इस इवेंट से मध्यम और लंबी अवधि में सबसे बड़े क्रिप्टो की कीमत को ऊपर की ओर ले जाने की अपेक्षा की जा रही है। 

बाज़ार के इन हालातों को देखते हुए किसी क्रिप्टो ब्रोकरेज को लॉन्च करना — जो क्रिप्टो मुद्रा एक्सचेंजों के फ़ायदों को पारंपरिक ब्रोकरेज काम-काज के फ़ायदों के साथ मिला देने वाला एक व्यावसायिक मॉडल होता है — वित्तीय कंपनियों और महत्त्वाकांक्षी एंटरप्रेन्योर्स के लिए एक आसान-सा फ़ैसला जान पड़ता है।

चरण-दर-चरण निर्देशों और अहम पहलुओं से युक्त यह लेख इस बात पर केंद्रित है कि 2024 में क्रिप्टो ब्रोकर कैसे बना जा सकता है।

अहम बिंदु

  1. एक अकेली ब्रोकरेज बनाकर, तीसरी पार्टी वाले वाइट-लेबल प्रदाताओं का इस्तेमाल कर, या फिर इंट्रोड्यूसिंग ब्रोकर बनकर क्रिप्टो मुद्रा ब्रोकर बना जा सकता है।
  2. एक क्रिप्टो ब्रोकरेज बनाने के लिए आपको अनुभव, ज्ञान, संसाधनों, एक पेशेवर टीम, एक पुख्ता इंफ़्रास्ट्रक्चर, ठोस साझेदारियों, और भारी पूंजी की ज़रूरत पड़ती है।
  3. एक क्रिप्टो ब्रोकरेज शुरू करने में आपकी मदद करने के लिए तीसरी पार्टी वाले वाइट-लेबल समाधान कस्टमाइज़ किए जा सकने वाले ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म, बैक ऑफ़िस टूल्स, और अनुपालन सेवाएँ मुहैया करा सकते हैं।

क्रिप्टो ब्रोकर बनाम एक्सचेंज

सबसे पहले तो किसी क्रिप्टो ब्रोकर और एक्सचेंज की क्या खूबियाँ होती हैं? ये दोनों ही तरह की तीसरी पार्टियाँ क्रिप्टो मुद्राओं की खरीदारी, बिक्री, और ट्रेडिंग को सुविधाजनक बनाती हैं। लेकिन उनके काम करने का तरीका अलग होता है और उनकी लक्षित ऑडियंस भी अलग होती है। जहाँ क्रिप्टो एक्सचेंज क्रिप्टो मुद्रा ट्रेडिंग के शुरुआती दिनों से ही उपलब्ध रहे हैं, क्रिप्टो ब्रोकर बाज़ार की माँग के जवाब में उभरा अपेक्षाकृत नया कॉन्सेप्ट है।

उद्देश्य:

एक क्रिप्टो एक्सचेंज का प्रमुख उद्देश्य एक ऐसे ऑनलाइन बाज़ार के तौर पर काम करना होता है, जहाँ खरीदार और विक्रेता आपस में कॉइन्स और टोकनों को एक्सचेंज कर सकें। वांछित कीमत पर विभिन्न क्रिप्टो मुद्राएँ खरीदने के लिए उपयोगकर्ता क्रिप्टो मुद्रा या फ़िएट धन को डिपॉज़िट कर सकते हैं। इस सेवा के बदले एक्सचेंज एक शुल्क वसूलता है, और लेन-देन के पूरा हो जाने पर उपयोगकर्ता को खरीदी गई क्रिप्टो मुद्रा प्राप्त हो जाती है।

दूसरी तरफ़, क्रिप्टो ब्रोकर क्या होता है? वित्तीय सेवाओं वाली यह कंपनी खरीदारों और विक्रेताओं के दरमियाँ एक बिचौलिये के तौर पर काम करती है। विभिन्न एक्सचेंजों के साथ काम कर अपने ग्राहकों के लिए वह सबसे बेहतरीन दामों की खोज कर उन्हें एग्रीगेट कर देती है। ब्रोकर अक्सर पोर्टफ़ोलियो प्रबंधन और निवेश सुझाव जैसी अतिरिक्त सेवाएँ मुहैया कराते हैं। एक्सचेंजों की तुलना में वे भारी शुल्क तो वसूलते हैं, लेकिन ट्रेडिंग के प्रति एक ज़्यादा व्यावहारिक और पर्सनलाइज़्ड दृष्टिकोण भी मुहैया कराते हैं।

crypto broker vs crypto exchange

लेकिन क्रिप्टो ब्रोकरों और एक्सचेंजों के बीच का फ़ैसला आज कम होता जा रहा है।

आय के स्रोत:

एक्सचेंज और ब्रोकर, दोनों ही शुल्क के माध्यम से आय जैनरेट करते हैं, लेकिन आय के उनके स्रोत अलग-अलग होते हैं। एक्सचेंज लेन-देन शुल्क, विड्रॉअल शुल्क, नई क्रिप्टो मुद्राओं का लिस्टिंग शुल्क, और अन्य सेवा-संबंधी शुल्क वसूलकर पैसा बनाते हैं। 

इसके विपरीत, ब्रोकरों के शुल्क स्ट्रक्चर अक्सर जटिल होते हैं। इनमें सौदों पर कमीशन, स्प्रेड्स (खरीदारी और बिक्री की कीमतों के बीच का फ़र्क), ओवरनाइट फ़ाइनेंसिंग चार्ज, व अन्य विविध शुल्क शामिल होते हैं।

क्रिप्टो मुद्रा ब्रोकर कैसे बनें?

अगर एक क्रिप्टो ब्रोकर-डीलर बनने में आपकी दिलचस्पी है, तो अपनी ब्रोकरेज का आगाज़ करने के कई तरीके होते हैं। आइए उनमें से तीन प्रमुख तरीकों की समीक्षा करके देखते हैं।

शून्य से एक स्टैंडअलोन ब्रोकरेज का निर्माण करना

पहला विकल्प शून्य से अपनी ब्रोकरेज को खड़ा करना होता है। इस दृष्टिकोण के तहत टेक्नोलॉजी इंफ़्रास्ट्रक्चर और ग्राहक सेवा से लेकर मार्केटिंग और अनुपालन तक, क्रिप्टो व्यवसाय के सभी पहलुओं पर आपको पूरा नियंत्रण मिल जाता है।

लेकिन एक स्टैंडअलोन ब्रोकरेज सेट-अप करने में काफ़ी समय, पैसे, और विशेषज्ञता की ज़रूरत पड़ती है। आपको किसी ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म को विकसित करना या खरीदना पड़ेगा, लिक्विडिटी प्रदाताओं और बैंकों के साथ संबंध स्थापित करने होंगे, और सभी काम-काज को प्रबंधित करने के लिए प्रोफ़ेशनल्स की एक टीम को नियुक्त करना होगा।

तीसरी-पार्टी वाले किसी वाइट-लेबल प्रदाता के साथ पार्टनरशिप करना

किसी वाइट-लेबल प्रदाता के साथ पार्टनरशिप करना एक और विकल्प होता है। एक WL समाधान के तहत किसी मौजूदा ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म व अपने ब्रैंड के तहत आने वाले अन्य ज़रूरी इंफ़्रास्ट्रक्चर का इस्तेमाल कर अनुपालन, जोखिम प्रबंधन, और ग्राहक सपोर्ट जैसी बैक-ऑफ़िस सेवाओं को आप आउटसोर्स कर सकते हैं।

किसी ब्रोकरेज का श्रीगणेश करने के लिए इस तरीके के तहत लागत और समय की ज़्यादा बचत की जा सकती है। लेकिन मुमकिन है कि अपने व्यावसायिक कामकाज पर आपका कम नियंत्रण हो।

एक इंट्रोड्यूसिंग ब्रोकर बनना

तीसरा विकल्प एक इंट्रोड्यूसिंग ब्रोकर (IB) बनना होता है। एक IB के तौर पर कमीशन के बदले आप ग्राहकों का एक बड़ी ब्रोकरेज फ़र्म से परिचय या इंट्रोडक्शन करा देते हैं। इस दृष्टिकोण के तहत न्यूनतम संसाधनों और विशेषज्ञता की ज़रूरत पड़ती है, क्योंकि समूचे बैक-ऑफ़िस काम-काज को प्रमुख ब्रोकरेज ही संभालती है।

लेकिन ऐसे में अपने व्यवसाय पर आपका नियंत्रण सीमित हो सकता है व खुद अपना बिज़नस चलाने की तुलना में आपका मुनाफ़ा भी कम हो सकता है।

Ways to Become a Crypto Broker

शून्य से क्रिप्टो ब्रोकरेज व्यवसाय खड़ा करने में किन संसाधनों की ज़रूरत होती है?

सफल ब्रोकरेज काम-काज के लिए एक विशिष्ट स्किल सेट, अनुभव, और संसाधनों की ज़रूरत होती है, इसलिए Bitcoin ब्रोकर बनना हर किसी के बस की बात नहीं होती। इस तरह का कारोबार चलाने के लिए आपमें इनमें से कुछ योग्यताएँ होनी चाहिए:

  1. क्रिप्टो इंडस्ट्री की गहरी जानकारी: सबसे बेहतरीन क्रिप्टो ब्रोकर को क्रिप्टो मुद्राओं की अच्छी-खासी समझ होनी चाहिए। इसमें बुनियादी टेक्नोलॉजी, बाज़ार के रुझानों, और संभावित जोखिमों की जानकारी शामिल होती है। 
  2. मार्केटिंग और बिज़नस डेवलपमेंट स्किल्स: अपनी सेवाओं का कारगर ढंग से प्रचार कर इंडस्ट्री में रणनीतिक साझेदारियाँ बनाने के लिए ब्रोकरों के पास शानदार मार्केटिंग स्किल्स होने चाहिए।
  3. ट्रेडिंग या फ़ाइनेंस में व्यापक अनुभव: ब्रोकरिंग के लिए बड़ी-बड़ी धनराशियों को संभालना पड़ता है। इसलिए अपने क्षेत्र में महारत हासिल करने में वर्षों का ट्रेडिंग अनुभव लगता है।
  4. प्रोफ़ेशनल्स की सक्षम टीम: शुरुआत से ब्रोकरेज बनाना किसी एक व्यक्ति के बस की बात नहीं होती; काम-काज को बरकरार रख व्यवसाय को प्रबंधित करने के लिए योग्य पेशेवरों की एक टीम की ज़रूरत पड़ती है। आपकी ब्रोकरेज टीम में विश्लेषकों, जोखिम प्रबंधकों, और IT विशेषज्ञों को तो होना ही चाहिए।
  5. भारी पूंजी: बाज़ार में अपना डंका बजाने के लिए ट्रेडिंग सेवाएँ मुहैया कराने वाली क्रिप्टो कंपनियों को अच्छी-खासी पूंजी की ज़रूरत होती है। ब्रोकरेज बनाने, ऑपरेशनल लागत को कवर करने, और एक स्थायी ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म को बरकरार रखने के लिए इन वित्तीय संसाधनों की ज़रूरत पड़ती है।
  6. उच्च-स्तरीय इंफ़्रास्ट्रक्चर: साइबर सुरक्षा जोखिमों में आई बढ़ोतरी को मद्देनज़र रखते हुए अपने ग्राहकों के एसेट्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए क्रिप्टो व्यवसायों को पुख्ता और सुरक्षित इंफ़्रास्ट्रक्चर में निवेश करना चाहिए। इसमें एडवांस्ड ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म, हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्शन, और डेटा एन्क्रिप्शन टूल्स शामिल होते हैं।
  7. मज़बूत साझेदारियाँ: ट्रेड एक्सीक्यूशन को सुविधाजनक बनाने के लिए एक सफल कंपनी को नामी एक्सचेंजों, लिक्विडिटी प्रदाताओं, और भुगतान गेटवेज़ के साथ संबंध स्थापित कर लेने चाहिए।
What Do You Need to Build a Crypto Broker from Scratch-

शून्य से क्रिप्टो ब्रोकरेज खड़ी करने की चरण-दर-चरण गाइड

शुरुआत से अपनी ब्रोकरेज खड़ी करने के लिए आपको इन सामान्य चरणों का पालन करना चाहिए:

स्टेप 1: मार्केट रिसर्च करें

पहले स्टेप के तहत मौजूदा क्रिप्टो मुद्रा बाज़ार की गहरी रिसर्च की जाती है। विभिन्न क्रिप्टो मुद्राओं की छानबीन कर उनकी टेक्नोलॉजी और काम करने के उनके तरीके को समझें, बाज़ार के रुझानों को फ़ॉलो करें, और जोखिमों के प्रति सचेत रहें। सेक्टर की ताज़ा खबरों और उपलब्धियों की जानकारी रखकर अपनी कंपनी को आप कारगर ढंग से चला पाएँगे।

इसके अलावा, यह भी समझ लें कि आपका लक्षित बाज़ार कौनसा है, उनकी पसंद-नापसंद क्या है, और उनका बर्ताव कैसा है। अपने चयनित क्षेत्र में अपने प्रतिद्वंदियों का पता लगाकर यह समझ लें कि आपमें और उनमें क्या फ़र्क हैं ताकि उनपर बढ़त हासिल कर आप सफलतापूर्वक उनका मुकाबला कर सकें।

स्टेप 2: अपने फ़ाइनेंशियल्स का मूल्यांकन करें

ऑफ़िस के किराये, कर्मचारियों की तनख्वाह, टेक्नोलॉजी इंफ़्रास्ट्रक्चर, और मार्केटिंग खर्च जैसी प्रोजेक्टेड लागत पर जानकारी इकट्ठी कर लें। इंडस्ट्री विशेषज्ञों से सलाह-मशविरा और इंडस्ट्री बेंचमार्कों की रिसर्च कर यह सुनिश्चित कर लें कि आपके वित्तीय अनुमान हकीकत से परे तो नहीं हैं ताकि अपनी ब्रोकरेज के लिए आप संभावित जोखिमों और अवसरों की पहचान कर सकें।

वित्तीय जानकारी को परिभाषित करके अपनी लागत को कवर कर लाभकारिता हासिल करने के लिए आवश्यक आय का निर्धारण किया जा सकता है। बजट बनाने, वित्तीय निर्णय लेने, और निवेशकों को लुभाने या फिर लोन प्राप्त करने के लिए यह एक रोडमैप के तौर पर भी काम कर सकता है।

स्टेप 3: एक वित्तीय योजना बनाना

अपने लक्ष्यों, लक्षित बाज़ार, आय की धाराओं, और मार्केटिंग रणनीतियों की रूपरेखा तैयार करने वाली एक व्यापक व्यावसायिक योजना बना लें। अपनी ब्रोकरेज की अनूठी खूबियों को निर्धारित कर यह जान लें कि अपने प्रतिस्पर्धियों से आप खुद को अलग कैसे बना सकते हैं। OTC ट्रेडिंग, मार्जिन ट्रेडिंग, या फिर खास निवेश अवसरों के एक्सेस जैसी अपनी सेवाओं पर विचार करके देख लें।

एक योजना बनाने के लिए आप या तो किसी टेम्पलेट का सहारा ले सकते हैं या फिर किसी वित्तीय सलाहकार की मदद ले सकते हैं। अच्छे से बनाई गई व्यावसायिक योजना न सिर्फ़ आपके फ़ैसलों को गाइड करेगी, बल्कि संभावित निवेशकों को भी आकर्षित करेगी।

स्टेप 4: फ़ंडिंग प्राप्त करें

एक ब्रोकरेज शुरू करने के लिए आरंभिक खर्च को कवर कर सुचारू काम-काज को सुनिश्चित करने के लिए आपको पर्याप्त फ़ंडिंग की ज़रूरत होगी। फ़ंडिंग के पारंपरिक स्रोतों में एंजेल निवेशक, वेंचर पूंजीपति, और बैंक शामिल होते हैं। लेकिन ये विकल्प हमेशा उपलब्ध या व्यावहारिक नहीं होते।

क्राउडफ़ंडिंग प्लेटफ़ॉर्मों, पियर-टू-पियर लेंडिंग, या फिर छोटे व्यवसायों को मिलने वाले सरकारी अनुदानों पर विचार कर लें। पारंपरिक स्रोतों की सख्त शर्तों के बिना इन स्रोतों से पूंजी का एक्सेस प्राप्त जो किया जा सकता है।

स्टेप 5: आवश्यक लाइसेंस प्राप्त कर अपनी फ़र्म को रजिस्टर करवा लें

अपनी ब्रोकरेज लॉन्च करने से पहले यह सुनिश्चित कर लें कि अपने क्षेत्राधिकार में आवश्यक सभी लाइसेंस आपने प्राप्त कर लिए हैं। मनी ट्रांसमीटर लाइसेंस, रजिस्टर, और एंटी-मनी लॉन्डरिंग (AML) और नो यॉर कस्टमर (KYC) नियमों का अनुपालन करने की नियामक प्राधिकरण आमतौर पर माँग करते हैं।

कानूनी सलाह-मशविरा करना या फिर ब्रोकरेज इंडस्ट्री में विशेषज्ञता रखने वाली किसी लॉ फ़र्म के साथ साझेदारी करना पूर्ण अनुपालन सुनिश्चित करने का एक तरीका होता है। सभी आवश्यक शर्तों की पूर्ति को सुनिश्चित कर आवेदन प्रक्रिया में आने वाली जटिलताओं या बारीकियों से निपटने में वे आपकी मदद जो कर सकते हैं।

आमतौर पर ब्रोकरेज या क्रिप्टो एक्सचेंज लाइसेंस और परमिट आवेदनों के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज़ों और जानकारी को जमा करना होता है। सामान्यतः इस प्रक्रिया के तहत विस्तृत व्यावसायिक योजनाओं, वित्तीय स्टेटमेंट्स, प्रमुख कर्मचारियों की बैकग्राउंड जाँच, और नियामक जगत के मानकों के अनुपालन का प्रमाण जमा करना होता है।

इसके अलावा, एक क्रिप्टो लाइसेंसिंग आवेदन जमा करते समय उपयुक्त नियामक संस्थाओं को आपको आवश्यक शुल्क का भुगतान भी करना होता है। प्रोसेसिंग-संबंधी देरी से बचने के लिए सभी निर्दिष्ट समय-सीमाओं को पूरा कर समूचे अनुरोधित दस्तावेज़ मुहैया कराना न भूलें।

क्रिप्टो ब्रोकरेज को रजिस्टर करने के विभिन्न देशों में विभिन्न नियम-कायदे होते हैं। चीन, भारत, इंडोनेशिया, और तुर्की ने तो क्रिप्टो मुद्राओं को सीधा प्रतिबंधित ही कर दिया है, जब कि नरम नियमों की वजह से क्रिप्टो ब्रोकर एस्टोनिया, दुबई, मार्शल आइलैंड्स, व कुछ अन्य देशों को तवज्जो देते हैं।

फ़र्राटेदार फ़ैक्ट

स्टेप 6: एक टीम बना लें

कारोबार के विभिन्न पहलुओं को संभालकर सुचारू काम-काज को सुनिश्चित करने के लिए एक सफल ब्रोकरेज को प्रोफ़ेशनल्स की एक टीम की ज़रूरत होती है। विश्लेषकों, जोखिम प्रबंधकों, IT विशेषज्ञों, और ग्राहक सपोर्ट स्टाफ़ को नियुक्त कर लें। हर पद के लिए विशिष्ट योग्यताएँ और विशेषज्ञता निर्दिष्ट की जानी चाहिए। एक विस्तृत जॉब विवरण तैयार करना न भूलें।

संभावित पदाभिलाषियों तक पहुँचने के लिए ऑनलाइन जॉब पोर्टल्स, प्रोफ़ेशनल नेटवर्कों, और इंडस्ट्री-विशिष्ट प्लेटफ़ॉर्मों जैसे विभिन्न भर्ती चैनलों का उपयोग करें। उनकी क्षमता का आकलन कर यह जानने के लिए कि आपकी फ़र्म की संस्कृति के वे अनुकूल हैं या नहीं, गहन साक्षात्कार और रेफ़रेंस चेक कर लें। इसके अलावा, इंडस्ट्री के नियम-कायदों, वित्तीय प्रोडक्ट्स, बाज़ार के रुझानों, और ग्राहक संबंध प्रबंधन में अपने स्टाफ़ के हुनर और ज्ञान में निखार लाने के लिए व्यापक प्रशिक्षण प्रोग्राम मुहैया कराने पर भी विचार कर लें।

स्टेप 7: रणनीतिक साझेदारियाँ बनाएँ

अपने ग्राहकों को प्रतिस्पर्धात्मक प्राइसिंग और एक्सीक्यूशन मुहैया कराने के लिए नामी एक्सचेंजों और लिक्विडिटी प्रदाताओं के साथ साझेदारी करें। बाज़ार में आपकी ब्रोकरेज की प्रतिस्पर्धात्मकता में चार चाँद लगाने का माद्दा रखने वाले एडवांस्ड ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्मों और टूल्स को एक्सेस करने के लिए टेक्नोलॉजी प्रदाताओं के साथ साझेदारी करने पर विचार करें।

स्टेप 8: ज़रूरी इंफ़्रास्ट्रक्चर बनाएँ

बात जब अपना खुद का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म सेट-अप करने की आती है, तो आपके पास विकल्पों की कोई कमी नहीं होती। आप अपना खुद का कस्टम प्लेटफ़ॉर्म भी विकसित कर सकते हैं या फिर तीसरी पार्टी वाले प्रदाताओं द्वारा मुहैया कराए जाने वाले मौजूदा प्लेटफ़ॉर्मों में से किसी प्लेटफ़ॉर्म का चयन भी कर सकते हैं। अपनी आवश्यकतानुसार फ़ीचर्स और फ़ंक्शनैलिटी पर विचार कर विभिन्न क्रिप्टो ब्रोकर सॉफ्टवेयरों की तुलना कर लें।

किसी ब्रोकरेज के टेक्नोलॉजिकल इंफ़्रास्ट्रक्चर के कुछ अहम पहलुओं में ये पहलू शामिल हो सकते हैं:

  • ग्राहकों द्वारा अपने अकाउंटों को रजिस्टर कर उन्हें एक्सेस करने के लिए एक सुरक्षित और एन्क्रिप्टेड वेबसाइट
  • रियल-टाइम मार्केट डेटा, चार्टिंग टूल्स, और ऑर्डर एक्सीक्यूशन जैसे एडवांस्ड फ़ीचर्स से लैस ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म
  • टू-फ़ैक्टर ऑथेंटिकेशन और ग्राहकों के पैसे को स्टोर करने के लिए कोल्ड स्टोरेज जैसे मल्टी-लेवल सुरक्षा उपाय
  • भुगतान प्रोसेसरों और अन्य तीसरी पार्टी वाली सेवाओं के साथ इंटीग्रेशन
  • एक समर्पित CRM, बैक ऑफ़िस, और ग्राहक सपोर्ट सिस्टम

स्टेप 9: अपनी ब्रोकरेज को मार्केट करें

समय है अपनी ब्रोकरेज सेवाओं की मार्केटिंग शुरू कर ग्राहकों को लुभाने का। ऐसा करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्मों के माध्यम से एक मज़बूत ऑनलाइन उपस्थिति बनाएँ, उपयुक्त वेबसाइटों या फ़ोरम्स पर विज्ञापन डालें, और क्रिप्टो मुद्रा समुदाय में संभावित ग्राहकों के साथ नेटवर्क करें। प्रमोशन या इंसेंटिव देने पर भी आप विचार कर सकते हैं।

स्टेप 10: अपनी ब्रोकरेज लॉन्च करें

सभी आवश्यक चरणों के पूरा हो जाने पर अपनी ब्रोकरेज को आधिकारिक रूप से लॉन्च करने की बारी आती है। काम-काज को प्रबंधित कर नियमित समीक्षा और सुरक्षा उपायों की अपडेट जैसे संभावित मुद्दों पर विचार करने के लिए एक पुख्ता प्लैन होना अहम होता है।

तीसरी पार्टी वाले सॉफ़्टवेयर के माध्यम से ब्रोकरेज बनाना

शून्य से किसी ब्रोकरेज का निर्माण करना एक जटिल और समय लेने वाली प्रक्रिया होती है। वैसे भी, आपको भारी मात्रा में संसाधनों और विशेषज्ञता की ज़रूरत पड़ती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आपकी ब्रोकरेज सभी ज़रूरी नियामक आवश्यकताओं का अनुपालन कर सुचारू रूप से काम कर रही है।

तीसरी पार्टी वाले वाइट-लेबल समाधानों का इस्तेमाल इस प्रक्रिया को सरल बनाने का एक तरीका होता है। ये सॉफ़्टवेयर प्रदाता कस्टमाइज़ किए जा सकने वाले ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म, बैक ऑफ़िस टूल्स, अनुपालन सेवाएँ, व अपनी ब्रोकरेज को लॉन्च कर उसे ज़्यादा कारगर ढंग से प्रबंधित करने में मददगार अन्य फ़ीचर्स मुहैया कराते हैं।

तीसरी पार्टी वाले सॉफ़्टवेयर प्रदाता इंडस्ट्री के नियम-कायदों से वाकिफ़ होते हैं व यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपकी ब्रोकरेज सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करती है। बाज़ार की ताज़ा डेवलपमेंट्स के साथ आपके प्लेटफ़ॉर्म को अप-टू-डेट रखने के लिए वे निरंतर तकनीकी सपोर्ट और अपडेट भी मुहैया कराते हैं।

क्रिप्टो मुद्रा ब्रोकरेज को खड़ा करने के लिए विभिन्न प्रकार के समाधान मुहैया कराने वाला B2Broker भी एक ऐसा ही प्रदाता है। हमारी सेवाओं में वाइट-लेबल ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म (cTrader), लिक्विडिटी और जोखिम प्रबंधन टूल्स, B2BinPay क्रिप्टो प्रोसेसिंग गेटवे, B2Core CRM और बैक-ऑफ़िस सॉफ़्टवेयर, B2Copy के साथ कॉपी ट्रेडिंग, KYC/AML अनुपालन सेवाएँ, व और भी काफ़ी कुछ शामिल होता है।

क्रिप्टो मुद्रा स्पॉट ब्रोकरों के लिए हम एक BBP (B2Trader ब्रोकरेज प्लेटफ़ॉर्म) समाधान प्रदान करते हैं — इसमें एक हफ़्ते के अंदर-अंदर ब्रोकरेज को लॉन्च करने या फिर अपने मौजूदा काम-काज में क्रिप्टो स्पॉट ट्रेडिंग को इंटीग्रेट करने के लिए ज़रूरी इंफ़्रास्ट्रक्चर शामिल होता है।

B2Trader Brokerage Platform

सारांश

एक क्रिप्टो स्पॉट ब्रोकरेज बनाना कोई बच्चों का खेल नहीं होता: नियामक ढाँचे से गुज़रना, एक लायक टीम बनाना, आवश्यक इंफ़्रास्ट्रक्चर का निर्माण करना, और अपनी सेवाओं को कारगर ढंग से मार्केट करना। लेकिन अपनी ब्रोकरेज को कुशलतापूर्वक लॉन्च करने के लिए तीसरी पार्टी वाले प्रदाताओं की विशेषज्ञता का आप लाभ उठा सकते हैं।

आम सवाल-जवाब

किसी क्रिप्टो ब्रोकरेज को शुरू करने में कितनी लागत आती है?

किसी क्रिप्टो ब्रोकरेज को शुरू करने की लागत लोकेशन, व्यावसायिक मॉडल, और क्रिप्टो लाइसेंस जैसे विभिन्न फ़ैक्टरों पर काफ़ी निर्भर कर सकती है। आमतौर पर शून्य से क्रिप्टो ट्रेडिंग ब्रोकर या एक्सचेंज का आगाज़ करने में $200,000 से $500,000 तक की लागत आ सकती है, जो काफ़ी हद तक प्रोजेक्ट के दायरे, डेवलपमेंट के तौर-तरीकों, और अन्य विशिष्ट फ़ैक्टरों पर काफ़ी निर्भर करती है।

साथ ही, किसी वाइट-लेबल समाधान का इस्तेमाल कर आरंभिक लागत काफ़ी कम हो सकती है – आमतौर पर यह $10,000 या उससे ऊपर होती है। गौरतलब है कि ये सिर्फ़ अनुमान मात्र हैं, और अंतिम लागत आपकी विशिष्ट व्यावसायिक ज़रूरतों के आधार पर भिन्न हो सकती है।

क्या क्रिप्टो स्पॉट ट्रेडिंग को मेरे मौजूदा व्यावसायिक काम-काज में इंटीग्रेट किया जा सकता है?

तीसरी पार्टी वाली क्रिप्टो स्पॉट ट्रेडिंग को आपके व्यवसाय में इंटीग्रेट करना अपेक्षाकृत सरल होता है। अपने मनचाहे समाधान के प्रदाता से आपको संपर्क करना होगा ताकि इंटीग्रेशन प्रक्रिया में वह आपकी मदद कर सके।

एक ब्रोकरेज शुरू करने के लिए क्या मुझे किसी विशिष्ट क्रिप्टो लाइसेंस की ज़रूरत होती है?

किसी क्रिप्टो ब्रोकरेज को चलाने की आवश्यकताएँ आपके स्थान और आपके द्वारा मुहैया कराई जा रहीं सेवाओं के अनुसार भिन्न होती हैं। आमतौर पर अमेरिका में सिक्योरिटीज़ एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC) या फिर यूके में फ़ाइनेंशियल कंडक्ट ऑथोरिटी (FCA) जैसी उपयुक्त नियामक संस्थाओं से आपको अपनी ब्रोकरेज के लिए लाइसेंस प्राप्त करने होते हैं।

लेकिन कुछ क्षेत्राधिकारों के तहत क्रिप्टो ब्रोकरेज चलाने के लिए आपको किसी लाइसेंसिंग प्रक्रिया से नहीं गुज़रना पड़ता। हाँ, क्रिप्टो लाइसेंस होने से एक वित्तीय कंपनी के तौर पर आपकी विश्वसनीयता में सुधार आ सकता है, जो अपने ग्राहकों का भरोसा जीतने में एक अहम भूमिका निभाती है।

द्वारा

Alexander Shishkanov

अलेक्जेंडर शिशकानोव के पास क्रिप्टो और फिनटेक उद्योग में कई वर्षों का अनुभव है और ब्लॉकचेन तकनीक की खोज करने का शौक है। अलेक्जेंडर क्रिप्टोकरेंसी, फिनटेक समाधान, ट्रेडिंग रणनीतियों, ब्लॉकचेन विकास और बहुत कुछ जैसे विषयों पर लिखते हैं। उनका मिशन व्यक्तियों को इस बारे में शिक्षित करना है कि इस नई तकनीक का उपयोग सुरक्षित, कुशल और पारदर्शी वित्तीय प्रणाली बनाने के लिए कैसे किया जा सकता है।

और पढ़ेंLinkedin

द्वारा समीक्षित

Tamta Suladze

तमता जॉर्जिया में स्थित एक कंटेंट राइटर है, जिसके पास समाचार आउटलेट, ब्लॉकचेन कंपनियों और क्रिप्टो व्यवसायों के लिए वैश्विक वित्तीय और क्रिप्टो बाजारों को कवर करने का पांच साल का अनुभव है। उच्च शिक्षा की पृष्ठभूमि और क्रिप्टो निवेश में व्यक्तिगत रुचि के साथ, वह नए क्रिप्टो निवेशकों के लिए जटिल अवधारणाओं को आसानी से समझने वाली जानकारी में तोड़ने में माहिर हैं। तमता का लेखन पेशेवर और प्रासंगिक दोनों है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उसके पाठकों को मूल्यवान अंतर्दृष्टि और ज्ञान प्राप्त हो।

और पढ़ेंLinkedin
शेयर